Tuesday, Aug 16, 2022
-->
arnab goswami republic tv anchor gets relief from bombay high court 2 firs suspended rkdsnt

अर्णब गोस्वामी को बॉम्बे हाई कोर्ट से मिली राहत, 2 FIR निलंबित

  • Updated on 6/30/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। बॉम्बे हाई कोर्ट ने मंगलवार को रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्णब गोस्वामी के खिलाफ दायर 2 प्राथमिकियों को निलंबित कर दिया। पालघर में पीट-पीटकर की गई संतों की हत्या के मामले और लॉकडाउन के बीच बांद्रा रेलवे स्टेशन के बाहर प्रवासी श्रमिकों की भीड़ जमा होने के संबंध में कथित उकसावे और भड़काऊ टिप्पणियों के लिए उनके खिलाफ ये प्राथमिकियां दर्ज कराई गई थीं। 

पीएम मोदी के ऐलान के बाद ममता ने भी की फ्री राशन की घोषणा

जस्टिस उज्जल भूयां और जस्टिस रियाज चागला की एक खंड पीठ ने अपने अंतरिम आदेश में कहा कि पहली नजर में गोस्वामी के खिलाफ किसी अपराध का खुलासा नहीं किया गया है तथा उनका इरादा समाजिक सौहार्द बिगाडऩे या हिंसा भड़काने का नहीं था। गोस्वामी की याचिका विचारार्थ स्वीकार करते हुए अदालत ने पुलिस को निर्देश दिया कि अंतिम सुनवाई होने और याचिका के निपटारे तक उनके साथ कोई दंडात्मक कोई कार्रवाई न करे। 

हार्ले डेविडकन बाइक पर CJI बोबडे की सवारी को लेकर आया स्पष्टीकरण

गोस्वामी ने उनके विरूद्ध दर्ज दो प्राथमिकियां खारिज करने का अनुरोध किया था। उनके विरूद्ध एक प्राथमिकी नागपुर में और दूसरी प्राथमिकी मुम्बई में दर्ज की गयी है। नागपुर मामले का संबंध खबरिया चैनल रिपब्लिक टीवी पर प्रसारित एक शो से है जहां गोस्वामी ने पालघर में दो संतों की पीट-पीटकर की गयी हत्या से जुड़े मामले में कथित रूप से सांप्रदायिक टिप्पणी की थी। 

कोरोना संक्रमण : मोदी सरकार ने अनलॉक-2 के लिए जारी की गाइडलाइंस

मुम्बई का मामला तब दर्ज किया गया था जब इसी चैनल पर इस चैनल पर प्रसारित एक कार्यक्रम में गोस्वामी ने बांद्रा रेलवे स्टेशन के बाहर प्रवासी श्रमिकों की भीड़ जमा होने के संबंध में कथित रूप से भड़काऊ टिप्पणी की थी। गोस्वामी के वकील हरीश साल्वे ने दलील दी कि कांग्रेस ने देशभर में गोस्वामी के खिलाफ प्राथमिकियां दर्ज करवायीं और कहा कि ऐसे मामलों में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता एवं आपराधिक कानून के बीच संतुलन बनाने की जरूरत है। 

सियासी किचकिच: कांग्रेस का आरोप, पीएम केयर्स फंड में चीन से आया चंदा

महाराष्ट्र सरकार की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल और राजा ठाकरे ने याचिका का विरोध किया और कहा कि पत्रकार को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का हक तो है लेकिन उन्हें ये घोषित करने का अधिकार नहीं है कि एक व्यक्ति की केवल इसलिए हत्या की गयी क्योंकि वह खास धर्म का था।

चीन से तनाव के बीच फ्रांस से मिल सकती है राफेल विमानों की पहली खेप

 

 

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.