Sunday, Mar 07, 2021
-->
arun-jaitley-under-supervision-of-aiims-doctors-kidney-transplant-can-be-done-soon

जेटली का एम्स में डायलिसिस, जल्द हो सकता है किडनी ट्रांसप्लांट

  • Updated on 4/9/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली एम्स डॉक्टरों की निगरानी में चल रहे हैं। आज ही उनका डायलिसिस हुआ है और जल्द ही जेटली किडनी ट्रांसप्लांट से गुजर सकते हैं। एम्स सूत्रों के मुताबकि डायलिसिस कराने के बाद जेटली आज शाम अपने घर लौट गए हैं। 

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के अधिकारियों को भारत ने आसानी से दिया वीजा

बता दें कि की किडनी ट्रांसप्लांट सर्जरी के लिए जेटली को चार दिन पहले एम्स में भर्ती कराया गया था। एम्स सूत्रों का कहना है कि जेटली चिकित्सकों की निगरानी में हैं और ऐसे में जल्द ही उनकी किडनी बदली जा सकती है। 

ICICI-Videocon लोन मामला: भाजपा सांसद की ओर से उठी चंदा कोचर की गिरफ्तारी की मांग

65 वर्षीय जेटली अपनी किडनी प्रतिरोपण सर्जरी से पहले कुछ जरुरी मेडिकल जांच करा रहे हैं। दरअसल, केंद्रीय मंत्री को डायबिटीज की भी समस्या है और वह किडनी से जुड़ी परेशानियों से जूझ रहे हैं। 

गहरी खाई में गिरी स्कूल बस, 27 बच्चों समेत 30 की मौत, CM ने किया मुअावजे का ऐलान

जेटली पिछले सोमवार से ऑफिस नहीं जा रहे हैं। जरुरी काम वह अपने घर से ही निपटा रहे हैं। हाल ही में वह राज्यसभा में पुर्निनर्वाचित हुए हैं, लेकिन बीमारी के चलते शपथ भी नहीं ले सके हैं। 

एम्स के भ्रष्टाचार मामले अवैध तरीके बंद करने के दावे पर कोर्ट ने केंद्र से मांगा जवाब

जेटली ने अपने बढ़ते वजन की वजह से सितंबर 2014 में बेरियाट्रिक सर्जरी कराई थी। यह सर्जरी मैक्स अस्पताल में हुई थी, लेकिन बढ़ती जटिलताओं की वजह से उन्हें एम्स में भर्ती कराया गया। कई वर्ष पहले केंद्रीय मंत्री हार्ट सर्जरी भी करा चुके हैं। 

मुंबई एयरपोर्ट पर दो दिनों के लिए 6-6 घंटे प्रभावित रहेंगी फ्लाइट्स

सुनने में आ रहा है कि अपोलो अस्पताल के नेफ्रोलॉजिस्ट डॉ संदीप गुलेरिया जेटली की सर्जरी कर सकते हैं, जो एम्स के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया के भाई भी हैं। रणदीप गुलेरिया और जेटली फैमिली फ्रेंड हैं। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.