Monday, Jan 21, 2019

AAP ने शीला दीक्षित की वापसी पर किया कांग्रेस पर कटाक्ष

  • Updated on 1/10/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। आम आदमी पार्टी (AAP) ने पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को दिल्ली प्रदेश कांग्रेस की कमान एक बार फिर सौंपे जाने को कांग्रेस में नेतृत्व के संकट का सबूत बताया है। दीक्षित को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बनाये जाने की बृहस्पतिवार को घोषणा किये जाने के बाद आप की ओर से जारी बयान में हालांकि इसे कांग्रेस का आंतरिक मामला बताया गया। 

आलोक वर्मा को हटाने पर कांग्रेस बोली- जांच से डरे हुए हैं पीएम मोदी

साथ ही पार्टी ने यह भी कहा, ‘‘दीक्षित की वापसी का मतलब साफ है कि दिल्ली कांग्रेस में नेतृत्व का गंभीर संकट है। पार्टी ने दलील दी कि 2013 में दीक्षित बतौर मुख्यमंत्री आप संयोजक अरविंद केजरीवाल से चुनाव हारी थी।

सिब्बल ने पूछा- जब रोजगार ही नहीं, तो आरक्षण का लाभ किसे मिलेगा?

तब से लेकर अब तक कांग्रेस के दो प्रदेश अध्यक्षों को आजमाया गया और इस दौरान विधानसभा एवं लोकसभा चुनाव में कांग्रेस का दिल्ली में खाता भी नहीं खुल सका। 

PM के नेतृत्व वाली सेलेक्ट कमेटी ने की वर्मा की छुट्टी, नागेश्वर होंगे अंतरिम CBI चीफ

पार्टी ने कहा कि इसके बाद दीक्षित को उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की ओर से मुख्यमंत्री पद का दावेदार बना कर भेजा गया। बाद में कांग्रेस ने सपा से हाथ मिलाकर चुनाव लड़ा और इसमें कांग्रेस की करारी हार हुयी।

CBI मामले में स्वामी बोले- फर्जी कानूनी जानकारों की बात नहीं सुनें PM मोदी

AAP ने इसके बावजूद दीक्षित को दिल्ली का प्रदेश अध्यक्ष बनाया जाने को कांग्रेस में नेतृत्व के गंभीर संकट का सबूत बताते हुये पूर्व मुख्यमंत्री के अच्छे स्वास्थ्य की कामना की।

शीला को फिर दिल्ली कांग्रेस की कमान, AAP के खिलाफ खोलेंगी मोर्चा 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.