Sunday, Jan 23, 2022
-->
arvind kejriwal aap persuade female teacher who protesting on water tank in punjab rkdsnt

पंजाब में टंकी पर विरोध-प्रदर्शन कर रही बेरोजगार महिला टीचर को मनाने पहुंचे केजरीवाल

  • Updated on 11/27/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पंजाब में बेरोजगार शिक्षकों का विरोध प्रदर्शन चुनाव के मद्देनजर अब तेज हो गया है। पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी शनिवार को, बरनाला जिले में जिस स्थान पर एक जनसभा को संबोधित करने वाले थे, उसके पास ही बेरोजगार शिक्षकों के एक समूह ने विरोध प्रदर्शन किया और पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को हिरासत में ले लिया। वहीं, एक महिला टीचर टंकी पर ही विरोध-प्रदर्शन पर बैठ गई। इस महिला को मनाने के लिए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उससे संवाद भी किया। इस संबंध में वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। 

संयुक्त किसान मोर्चा ने 29 नवंबर का संसद तक ट्रैक्टर मार्च किया स्थगित

 

आम आदमी पार्टी ने अपने ट्वीट में लिखा है, 'जिस Punjab में शिक्षक स्कूल के बदले सड़क पर हों, जिस Punjab में शिक्षक Classroom के बदले टंकी पर हों,
जिस Punjab में शिक्षकों के हाथों में कलम या Chalk के बजाय सरकार के ख़िलाफ़ तख्तियां हों, उस Punjab में शिक्षा का क्या हाल होगा @PargatSOfficial
?'

गोवा के पुरातत्व संरक्षित क्षेत्र में अवैध निर्माण को TMC, GFP ने बनाया मुद्दा, निशाने पर BJP

अपने दूसरे ट्वीट में पार्टी ने टंकी पर चढ़ी महिला टीचर का वीडियो भी शेयर किया है। साथ ही लिखा है, यह है Janta Ka CM 
@ArvindKejriwal ❤ Kejriwal: आप मुझे अपना भाई मानती हो? Teacher: मानती हूं!
Kejriwal: मुझ पर भरोसा है? Teacher: पूरा भरोसा है!
Kejriwal: Punjab में हमारी सरकार बन रही है ना? Teacher: जी बन रही है! Kejriwal: तो फिर नीचे आ जाइए, हम आपकी सारी मांगे पूरा करेंगे।'

नवाब मलिक का दावा - फंसाने की कोशिश कर रही हैं केंद्रीय एजेंसियां 

अपनी जनसभा में केजरीवाल ने कहा, 'ये होता है CONFIDENCE, जो सिर्फ काम करने वाले नेता के पास हो सकता है! "जिनको Punjab के Govt Schools अच्छे लगते है, वो Congress को Vote दे देना। और जिनको Delhi जैसे Govt Schools पंजाब में चाहिए, वो आम आदमी पार्टी को वोट दे देना।"

बेरोजगार शिक्षकों ने चन्नी के कार्यक्रम स्थल के पास किया प्रदर्शन 
पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी शनिवार को, बरनाला जिले में जिस स्थान पर एक जनसभा को संबोधित करने वाले थे, उसके पास ही बेरोजगार शिक्षकों के एक समूह ने विरोध प्रदर्शन किया और पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को हिरासत में ले लिया। दाना मंडी स्थल के पास प्रदर्शन करने वालों ने राज्य की कांग्रेस सरकार के विरोध में नारे लगाए और रोजगार की मांग की। जैसी ही उन्होंने नारे लगाने शुरू किये, सादे कपड़े में पुलिसर्किमयों ने हाथों से प्रदर्शनकारियों के मुंह बंद करने का प्रयास किया। इस घटना में कुछ प्रदर्शनकारियों की पगड़ी उतर गई। 

दलित हत्याकांड : अखिलेश का शाह पर कटाक्ष- उम्मीद है ये अपराधी बिना चश्मे के भी दिख जाएंगे

जगजीत सिंह नामक एक प्रदर्शनकारी ने राज्य सरकार पर रोजगार देने की लंबे समय से चली आ रही मांग पर ध्यान नहीं देने का आरोप लगाया। प्रदर्शनकारियों ने कहा कि वे सरकार से शिक्षा विभाग में रोजगार देने की मांग कर रहे हैं। अधिकारियों ने बताया कि सुरक्षाकर्मियों ने शिक्षकों को पुलिस की एक वैन में बिठाया और फिर उन्हें हिरासत में ले लिया। 

कृषि मंत्री तोमर ने कहा - पराली जलाना अब अपराध नहीं होगा, किसानों की मांग मानी गईं

महिलाओं, बेरोजगार शिक्षकों और राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के निविदा र्किमयों के एक अन्य समूह ने भी राज्य सरकार के विरुद्ध अपनी मांग को लेकर बठिंडा -चंडीगढ़ राजमार्ग को अवरुद्ध किया। इससे यातायात जाम हो गया और प्रशासन को यातायात दूसरी ओर मोडऩा पड़ा। पुलिसर्किमयों ने प्रदर्शनकारियों को सड़क से हटाने का प्रयास किया जिस दौरान झड़प हो गयी। बाद में पुलिस ने उन्हें बलपूर्वक राजमार्ग से हटा दिया।  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.