Thursday, Mar 21, 2019

कैप्टन के इंकार के बाद अकाली दल के बागी नेताओं पर केजरीवाल की नजर

  • Updated on 3/12/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। लोकसभा चुनाव के मद्देनजर आम आदमी पार्टी (AAP) और कांग्रेस के बीच भले ही गठबंधन की बात पटरी पर नहीं आ पा रही हो, लेकिन पंजाब में पार्टी की अकाली दल के बागी नेताओं के साथ चुनावी गठबंधन को लेकर बातचीत जारी है। AAPके संयोजक अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को संवाददाता सम्मेलन में कहा कि अकाली दल से अलग हुए नेताओं के साथ चुनावी गठबंधन के बारे में AAP की पंजाब इकाई के संयोजक भगवंत मान बातचीत कर रहे हैं। 

भीम आर्मी के संस्थापक चन्द्रशेखर अपने समर्थकों के साथ गिरफ्तार

केजरीवाल ने पंजाब में पूर्व अकाली नेताओं के साथ गठबंधन के एक सवाल के जवाब में कहा, ‘‘पंजाब में उनके साथ बातचीत चल रही है। भगवंत मान के साथ उनके नेताओं से बात चल रही है। एक दो दिन में शायद तस्वीर साफ हो जायेगी।’’ दरअसल, अकाली दल के बागी नेताओं, सांसद रंजीत सिंह ब्रह्मपुरा, पूर्व सांसद रतन सिंह अजनाला और सेवा सिंह सेखवान ने पार्टी से अलग होकर शरोमणि अकाली दल (टकसाली) का गठन कर लिया है। टकसाली गुट, आदमपुर साहिब सीट से बीर देवेन्द्र सिंह को उम्मीदवार बनाने का इच्छुक है। 

मायावती का कांग्रेस के साथ गठबंधन से इंकार, खटाई में पड़ा महागठबंधन

प्रियंका गांधी ने अपने पहले चुनावी भाषण में मोदी सरकार को लिया आड़े हाथ

इन नेताओं को अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल के खिलाफ विद्रोही रुख अपनाने के बाद पार्टी से निष्कासित कर दिया गया था। दिल्ली में कांग्रेस के साथ गठबंधन के सवाल पर केजरीवाल ने कहा कि कांग्रेस की तरफ से इस बारे में कोई संदेश नहीं आया है। उन्होंने दिल्ली की सभी सात सीटों पर अपने बलबूते चुनाव लड़ने का भरोसा व्यक्त करते हुये कहा, 'बिना गठबंधन के भी आम आदमी पार्टी के सातों सांसद आ रहे हैं। हमारे पास उनकी (कांग्रेस) तरफ से कोई संदेश नहीं है।'

राकेश अस्थाना को लेकर क्रिश्चियन मिशेल ने अदालत में किया बड़ा दावा

कांग्रेस के साथ गठबंधन की बातचीत को लेकर भविष्य की संभावनाओं के सवाल पर केजरीवाल ने कहा, ‘‘मैं पूरी जिम्मेदारी से कह रहा हूं कि आप सातों सीट जीतने जा रही है। उनकी (कांग्रेस) तरफ से कोई संदेश आयेगा तब ही मैं कुछ कह पाऊंगा। आधिकारिक तौर पर अभी तक कांग्रेस के साथ कोई बातचीत नहीं हुयी है।’’ 

केजरीवाल ने चुनावी तैयारियों को लेकर AAP नेताओं के साथ कसी कमर

उन्होंने कांग्रेस की ओर से लगातार नकारात्मक संकेत मिलने की दलील देते हुए कहा कि गठबंधन के बारे में कांग्रेस की तरफ से सिर्फ दो ही संकेत मिले थे। पहला राकांपा नेता शरद पवार के घर पर हुई बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने गठबंधन से साफ इंकार कर दिया था और दूसरा, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष शीला दीक्षित के हाल ही में दिये गये बयान हैं।  कांग्रेस से गठबंधन की मजबूरी के सवाल पर उन्होंने कहा, ‘‘हमारे लिये देश जरूरी है, कोई पार्टी या नेता जरूरी नहीं है। देश के सामने हम सब छोटे हैं।’’
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.