Saturday, Nov 17, 2018

नोटबंदी के दो साल: केजरीवाल बोले- मोदी सरकार के घोटालों की सूची अंतहीन

  • Updated on 11/8/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी (AAP) के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने नोटबंदी के दो साल पूरा होने पर बृहस्पतिवार को मोदी सरकार के इस कदम पर सवालिया निशान लगाते हुए इसे देश की अर्थव्यवस्था के लिए ‘‘गहरा आघात’’ करार दिया। 

CBI डायरेक्टर आलोक वर्मा, स्पेशल डायरेक्टर अस्थाना CVC से मिले

चुनावी रेवड़ियां बांटने को RBI से करोड़ों रुपये चाहती है मोदी सरकार: कांग्रेस

केजरीवाल ने कहा, 'मोदी सरकार के वित्तीय घोटालों की सूची अंतहीन है, नोटबंदी भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए गहरे घाव की तरह है। दो साल पूरा होने के बाद भी यह रहस्य बना हुआ है कि देश को इस आपदा में क्यों धकेला गया था।' नोटबंदी के ऐलान से नकदी संकट पैदा हो गया और बैंकों तथा एटीएम मशीनों के बूथों पर पुराने नोट बदलने के लिए लोगों की लंबी लंबी कतारें लग गई थीं।  

नोटबंदी के दो साल : पी. चिदंबरम ने साधा अरुण जेटली पर निशाना

भाजपा के नेतृत्व वाली मोदी सरकार इस कदम का बचाव करते हुए कहती रही है कि अवैध मुद्रा, काले धन जैसी समस्या पर रोक लगाने के लिए यह जरूरी था।      बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर, 2016 को नोटबंदी का ऐलान किया था, जिसके तहत, उन दिनों प्रचलन में रहे 500 और एक हजार रुपये के नोट तत्काल प्रभाव से चलन से बाहर हो गए थे।

जेटली  ने किया सरकार के फैसले का बचाव
उधर, वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि नोटबंदी से औपचारिक अर्थव्यवस्था का विस्तार हुआ और कर आधार भी बढ़ा। इससे सरकार के पास गरीबों के हित में काम करने और बुनियादी ढांचे का विकास करने के लिए अधिक संसाधन उपलब्ध हुए। नोटबंदी की दूसरी बरसी पर एक फेसबुक पोस्ट में जेटली ने लिखा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार के पहले चार साल में आयकर रिटर्न दाखिल करने वालों की संख्या बढ़कर 6.86 करोड़ हो गई जबकि मई 2014 यह संख्या 3.8 करोड़ थी।

रघुराम राजन का RBI को लेकर मोदी सरकार पर बड़ा हमला

‘नोटबंदी का प्रभाव’ शीर्षक से लिखे अपने इस लेख में जेटली ने कहा, 'इस सरकार के पांच साल पूरे होने तक, हम करदाताओं की संख्या को दोगुना कर चुके होंगे।' उन्होंने कहा कि नवंबर 2016 में उस समय चलने वाले 500 और 1000 रुपये के नोटों को बंद करने का परिणाम यह हुआ कि 'हमारी अर्थव्यवस्था अधिक औपचारिक हुई, अधिक राजस्व मिला, गरीबों के लिए अधिक संसाधन मिले, बुनियादी ढांचा बेहतर हुआ और हमारे नागरिकों का जीवन स्तर भी बेहतर हुआ है।'

मनोज तिवारी को लेकर केजरीवाल सरकार सख्त, केस दर्ज कराने का निर्देश

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.