Wednesday, Aug 10, 2022
-->
arvind kejriwal aap writes to pm modi demanding bharat ratna for indian doctors rkdsnt

केजरीवाल ने भारतीय डॉक्टरों को भारत रत्न देने की मांग करते हुए PM मोदी को लिखा पत्र

  • Updated on 7/4/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर इस साल देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ सभी चिकित्सकों, नर्सों और पैरामेडिक्स को देने की मांग की, जिन्होंने महामारी के दौरान लोगों की सेवा की।  उन्होंने कहा कि यह उन चिकित्सकों को सच्ची श्रद्धांजलि होगी जिन्होंने अपनी जान गंवाई।  प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में केजरीवाल ने कहा कि इस साल भारत रत्न चिकित्सकों, नर्सों और पैरामेडिक्स को दिया जाना चाहिए।    

राहुल गांधी बोले: जुलाई आ गई और टीके नहीं आए, भाजपा ने किया पलटवार

  मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘कई चिकित्सकों और नर्सों ने कोरोना वायरस से लड़ाई में अपने जान की कुर्बानी दी है। अगर हम उन्हें भारत रत्न से सम्मानित करेंगे तो यह उनको वास्तविक श्रद्धांजलि होगी। लाखों चिकित्सकों और नर्सों ने अपने जीवन और परिवार की ङ्क्षचता किए बिना नि:स्वार्थ भाव से लोगों की सेवा की। इससे (उन्हें भारत रत्न से सम्मानित करने) बेहतर उन्हें धन्यवाद देने का कोई और तरीका नहीं हो सकता है।’’    

शिवसेना के राउत बोले- ED, CBI को सरकारों को हटाने में खुद को संलिप्त नहीं करना चाहिए

  उन्होंने कहा कि अगर नियम बदलने की जरूरत हो तो यह किया जाना चाहिए ताकि चिकित्सा समुदाय को सर्वोच्च नागरिक सम्मान से सम्मानित किया जा सके।  केजरीवाल ने कहा, ‘‘अगर नियम समूह को भारत रत्न देने की अनुमति नहीं देते, तो मेरा अनुरोध है कि आप नियम को बदलें। पूरा देश हमारे डॉक्टरों के प्रति कृतज्ञ है। अगर उन्हें (डॉक्टरों) भारत रत्न से सम्मानित किया जाता है तो देश का प्रत्येक नागरिक खुश होगा।’’   इससे पहले केजरीवाल ने ट््वीट करके भी यही मांग की थी।  

कांग्रेस ने अब रसोई गैस के बढ़ते दामों पर मोदी सरकार को लिया आड़े हाथ

     उन्होंने ट््वीट किया, ‘‘ इस वर्ष ‘भारतीय चिकित्सक’ को भारत रत्न मिलना चाहिए। ‘भारतीय चिकित्सक’ का मतलब सभी चिकित्सक, नर्स और पैरामेडिक्स हैं। शहीद हुए चिकित्सकों को यह सच्ची श्रद्धांजलि होगी। अपनी जान और परिवार की ङ्क्षचता किए बिना सेवा करने वालों का ये सम्मान होगा। पूरा देश इससे खुश होगा।’’   

भारतीय चिकित्सा संघ (आईएमए) द्वारा मध्य जून में मुहैया कराए गए आंकड़ों के मुताबिक कुल 730 चिकित्सकों की जान कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर के दौरान गई है। बिहार में सबसे अधिक 115 चिकित्सकों की कोविड-19 से मौत हुई है जबकि दिल्ली में 109, उत्तर प्रदेश में 79, पश्चिम बंगाल में 62, राजस्थान में 43, झारखंड में 39 और आंध्र प्रदेश में 38 चिकित्सकों ने महामारी से जान गंवाई है।       आईएमए के मुताबिक देश में कोविड-19 महामारी की पहली लहर के दौरान 748 चिकित्सकों की मौत हुई थी। 

 

 

comments

.
.
.
.
.