Thursday, Sep 23, 2021
-->
arvind-kejriwal-also-accepted-bjp-modi-govt-agricultural-laws-death-warrants-for-farmers-rkdsnt

केजरीवाल ने भी माना - किसानों के लिए मौत का वारंट हैं कृषि कानून 

  • Updated on 2/21/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को किसान नेताओं के साथ बैठक में कहा कि तीनों कृषि कानून, किसानों के लिए ‘‘मौत का वारंट’’ हैं। केजरीवाल ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसान नेताओं को दोपहर के भोजन पर दिल्ली विधानसभा में आमंत्रित किया था। 

अखिलेश का योगी सरकार पर कटाक्ष- बोले- जहां बेटियां सुरक्षित नहीं, वहां निवेश कैसे होगा

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘किसान विरोधी तीनों कानून किसानों के लिए मौत का वारंट हैं। अगर इन कानूनों को लागू किया जाता है तो भारत की कृषि कुछ उद्योगपतियों के हाथों में चली जाएगी और किसान बर्बाद हो जाएंगे।’’ उन्होंने कहा कि अगर इन कानूनों को लागू किया जाता है तो भारत के किसान अपनी ही जमीन पर मजदूर बन जाएंगे। 

प्रियंका गांधी बोलीं- खनन माफिया के लिए चलाई जा रही है यूपी की योगी सरकार

उन्होंने मांग की कि केंद्र सरकार सभी तीन ‘‘काले कानूनों’’ को तुरंत वापस ले और स्वामीनाथन आयोग की सिफारिश के अनुरूप सभी 23 फसलों के लिए एमएसपी की कानूनी गारंटी दी जाए। बैठक में पश्चिमी उत्तर प्रदेश के 40 से अधिक किसान नेताओं ने हिस्सा लिया। 

आईटी इंडस्ट्री में 90 फीसदी से ज्यादा लोग घर से कर रहे हैं काम : अजीम प्रेमजी

राष्ट्रीय जाट महासंघ के किसान नेता रोहित जाखड़ ने कहा कि उत्तर प्रदेश की सरकार जहां गाजीपुर प्रदर्शन स्थल पर बिजली और पानी की आपूर्ति काट रही है, वहीं केजरीवाल की सरकार पानी एवं शौचालय मुहैया कराके किसानों के प्रदर्शन का समर्थन कर रही है। जाखड़ ने कहा, ‘‘हमारा समर्थन उन लोगों को होगा जो हमारी समस्याओं के बारे में बात करेंगे। भाजपा सरकार ने हमारे स्वाभिमान को ठेस पहुंचाया है, जिसका जवाब हम वोट के माध्यम से देंगे।’’ 

पामेला गोस्वामी प्रकरण के बाद CBI सक्रिय, अभिषेक बनर्जी की पत्नी को थमाया नोटिस

 

 

 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.