Tuesday, Mar 02, 2021
-->
arvind kejriwal says modi bjp govt withdraws anti farmer bills aap will oppose these laws rkdsnt

किसान विरोधी बिलों को वापस ले मोदी सरकार, AAP करेगी इन कानूनों का विरोध : केजरीवाल

  • Updated on 9/17/2020

नई दिल्ली/नवोदय टाइम्स ब्यूरो। कृषि अध्यादेश को लेकर केंद्र सरकार से आम आदमी पार्टी के संयोजक, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दो टूक कहा है कि खेती और किसानों से संबंधित तीनो कानून किसान विरोधी हैं। देश भर में किसान इनका विरोध कर रहे हैं। केंद्र सरकार को इन तीनों क़ानूनों को वापस लेना चाहिए। आम आदमी पार्टी संसद में इनके विरोध में वोट करेगी। आम आदमी पार्टी ने साफ तौर पर किसानों के साथ खड़े होने का ऐलान किया है। 

AAP MP ने यूपी में चिकित्सा उपकरणों की खरीद में लगाया भ्रष्टाचार का आरोप


पार्टी के लोकसभा सांसद भगवंत मान ने कहा कि 'आप और किसानों के विरोध के बाद शिरोमणि अकाली दल और कांग्रेस ने एमएसपी अध्यादेश पर यू-टर्न ले लिया है, यह हमारी जीत है। कुछ दिन पहले तक शिरोमणि अकाली दल इन किसान विरोधी बिलों का समर्थन कर रहा था और आज वे मगरमच्छ के आंसू बहा रहे हैं। पंजाब में कांग्रेस के सीएम और वित्त मंत्री, दोनों ने पहले इन बिलों का समर्थन किया था। उन्हें इन किसान विरोधी बिलों को तब रोकना चाहिए था, जब ये शुरूआती चरण में थे और तब इन बिलों को संसद तक पहुंचने ही नहीं देना चाहिए था। 

अनिल अंबानी के खिलाफ दिवाला कार्यवाही शुरू करने का SBI की अपील कोर्ट ने ठुकराई


भगवंत मान ने कहा कि केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर को उस दिन इस्तीफा देना चाहिए था, जब केंद्रीय कैबिनेट में यह बिल आया था और वो मौजूद थी, लेकिन तब उन्होंने सहमति दे दी। वहीं 'आप विधायक जरनैल सिंह ने कहा कि एमएसपी बिल के जरिए शिरोमणि अकाली दल और कांग्रेस का असली चेहरा किसानों के सामने बेनकाब हो गया है। हम संसद के अंदर और बाहर अपना विरोध जारी रखेंगे और लोगों को बताएंगे कि शिरोमणि अकाली दल और कांग्रेस दोनों किसान विरोधी हैं। 

कृषि विधेयकों पर अकाली दल ने मोदी सरकार की बढ़ाई मुश्किलें, कौर का इस्तीफा


पार्टी मुख्यालय में बातचीत में भगवंत मान ने दोनों पार्टियां को एक जैसा, अंदर से कुछ और बाहर से कुछ और बताते हुए कहा केंद्र सरकार के पास लोकसभा में बहुमत है, तो लोकसभा में यह प्रस्ताव पास होना ही है। परंतु यदि सही मायने में अकाली दल और कांग्रेस किसानों की हितेषी हैं तो मिलकर राÓयसभा में इस बिल का विरोध करें। क्योंकि राज्यसभा में केंद्र सरकार के पास बहुमत नहीं है, राज्यसभा में इस बिल को रोका जा सकता है। भगवंत मान ने कहा कि यह बिल अन्नदाता को भिखारी बनाने और पूंजीपतियों को लूटने का लाइसेंस देने वाला है, किसान अपनी धरती मां को बचाने के लिए सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे हैं, 'आपÓ किसानों के साथ है। 

दिल्ली दंगा मामले में विपक्षी दलों के नेता राष्ट्रपति से मिले, पुलिस की भूमिका पर उठाए सवाल


आप विधायक जरनैल सिंह ने कहा कि एमएसपी अध्यादेश के जरिए आज कांग्रेस और अकाली दल का असली चेहरा जनता के सामने आ गया है। उन्होंने कहा कि सबने देखा है कि चाहे अकाली दल के मुखिया सुखबीर सिंह बादल हों या प्रकाश सिंह बादल हों या केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल हों, किस तरह से पिछले कई महीनों से इस एमएसपी अध्यादेश की वकालत करते रहे हैं कि यह अध्यादेश किसानों के हित में है और जब किसानों का दबाव इन लोगों पर पड़ा, किसानों ने इस बात का ऐलान कर दिया कि जो इस अध्यादेश के हक में है वह किसानों के खिलाफ है, तो किस तरह से अकाली दल के नेताओं ने गिरगिट की तरह रंग बदला है, यह साफ तौर पर देखा जा सकता है। 


उन्होंने कहा इसी प्रकार से यदि कांग्रेस की बात की जाए तो इस अध्यादेश के लिए चर्चा करने के लिए जो हाई पॉवर कमेटी बनाई गई थी, उस हाई पावर कमेटी में पंजाब के मुख्यमंत्री और कांग्रेस के बड़े नेता कैप्टन अमरिंदर सिंह खुद शामिल थे और इस अध्यादेश पर अपनी सहमति दी थी। साथ ही साथ पंजाब के वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल जो खुद जाकर इस अध्यादेश की सिफारिश करके आए थे। इन लोगों के भी असली चेहरे जनता के सामने खुल कर आ चुके हैं। उन्होंने कहा कि जहां तक बात इस अध्यादेश की  बात है यह कांग्रेस का ही बोया हुआ बीज है, जिसका खामियाजा आज पूरे देश के किसानों को भुगतना पड़ रहा है।

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

सुशांत मौत मामले में CBI ने दर्ज की FIR, रिया के नाम का भी जिक्र

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.