Thursday, Feb 27, 2020
arvind kejriwal will take oath with old cabinet in ramleela maidan news confirmed

खबर पक्की: पुरानी ही मंत्रिपरिषद के साथ शपथ लेंगे केजरीवाल

  • Updated on 2/15/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दिल्ली की 70 में से 62 सीटों पर विजय पताका लहराने के बाद अब राष्ट्रपति ने दिल्ली के मुख्यमंत्री के तौर पर अरविंद केजरीवाल की नियुक्ति कर दी है। इस बाबत अधिसूचना जारी होने के बाद यह भी साफ हो गया है कि अब पुराने चेहरे ही मंत्रिमंडल में रहेंगे और सरकार का कामकाज संभालेंगे। हालांकि उनकी नियुक्ति शपथ लेने के साथ ही औपचारिक तौर पर मानी जाएगी। 

जावेद अख्तर ने अरविंद केजरीवाल को दिल्ली आकर दी जीत की बधाई

इससे पहले अरविंद केजरीवाल और उनके मंत्रिमंडल ने जो त्यागपत्र भेजे उसे स्वीकार कर लिया गया। जारी अधिसूचना में कहा कि भारत के राष्ट्रपति ने तत्काल प्रभाव से राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनकी मंत्रिपरिषद का त्यागपत्र स्वीकार कर लिया है। तथापि वह नए मुख्यमंत्री के पद की शपथ लेने तक राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली के मुख्यमंत्री के रूप में कार्य करते रहेंगे। राष्ट्रपति भवन से फाइल पर मंजूरी के बाद गृह मंत्रालय के संयुक्त सचिव अनुज शर्मा ने यहअधिसूचना जारी की। 

#BJP की हार के कारणों पर उधेड़बुन, पार्टी को मिल रहे हैं ‘लेटर-बम’

साथ ही एक और अधिसूचना जारी करते हुए कहा कि राष्ट्रपति, अरविंद केजरीवाल को उस तारीख से जब वह अपने पद की शपथ लेंगे दिल्ली सरकार का मुख्यमंत्री नियुक्त करते हैं। राष्ट्रपति, मुख्यमंत्री की सलाह पर मनीष सिसोदिया, सत्येंद्र जैन, गोपाल राय, कैलाश गहलोत, इमरान हुसैन और राजेंद्र पाल गौतम को मंत्री के रूप में नियुक्त करते हैं, जब वे अपने पद की शपथ लेंगे।

इसलिए नहीं होगी कोई महिला मंत्री
रामलीला मैदान में अरविंद केजरीवाल तीसरी बार दिल्ली के मुख्यमंत्री का पद रविवार को संभालने जा रहे हैं। इसकी जोर शोर से तैयारियां भी चल रही हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, वरिष्ठ कांग्रेस नेता राहुल गांधी, राकांपा प्रमुख शरद पवार, तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी, बीजद नेता नवीन पटनायक, द्रमुक नेता स्टालिन समेत कई नेताओं ने केजरीवाल को इस ऐतिहासिक जीत की बधाई दी और खुद केजरीवाल को ममता, उद्धव, हेमंत सोरन ने अपने शपथ ग्रहण समारोह में बुलाया था लेकिन केजरीवाल ने किसी को आमंत्रित नहीं किया है। 

शाहीन बाग प्रदर्शन में पहुंचे अनुराग कश्यप, बिरयानी खाकर मोदी सरकार पर बरसे

प्रदेश पार्टी के संयोजक गोपाल राय से जब पूछा कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, उद्धव ठाकरे, हेमंत सोरेन को आखिर क्यों बुलावा नहीं भेजा जा रहा है? इसके जवाब में उन्होंने मीडिया से कहा, कोई खास कारण नहीं है। पिछली बार भी हमने जब शपथ ली थी तो दिल्ली की जनता के साथ ही ली थी। हम लोगों का मानना है कि दिल्ली के लोगों ने चुनाव लड़ा और जीता है तो उनको ही तवज्जो मिलनी चाहिए। मंत्रिमंडल में किसी महिला को लेने पर कहा कि जो काम हमने शुरू किए हैं, उसको आगे बढ़ाने, तेज करने के लिए यही व्यवस्था ठीक लगी। उन्होंने बताया कि हमारे राष्ट्र निर्माण अभियान से 11 लाख से अधिक लोग मिस कॉल करके जुड़ चुके हैं और 16 फरवरी को ही इसको लेकर पूरे देश के पदाधिकारी बैठक कर रहे हैं। 

आयुष्मान भारत पर वेटिंग का अड़ंगा, एम्स आ रहे हैं दूसरे राज्यों के लाभार्थी

अरविंद केजरीवाल ने एक ऑडियो मैसेज जारी कर दिल्ली वालों को शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने का न्योता दिया है। बता दें कि 2015 में चुनाव के नतीजे आने के बाद पीएम मोदी ने अरविंद केजरीवाल को फोन कर बधाई दी थी। केजरीवाल और मनीष सिसोदिया ने जीतने के बाद मोदी से मुलाकात कर शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने का न्योता दिया था लेकिन अन्य कार्यक्रमों के पूर्व निर्धारित होने का हवाला देकर शहर से बाहर होने की वजह से शपथ समारोह में आने में असमर्थता जताई थी। 

गुजरात में शर्मनाक घटना : 68 छात्राओं के मासिक धर्म की जांच, कपड़े उतरवाए  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.