arvind-subramanian-show-mirror-to-narendra-modi-bjp-govt-on-gdp

अरविंद सुब्रमणियम ने GDP आंकड़ों पर मोदी सरकार को दिखाया आईना

  • Updated on 6/11/2019

 नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमणियम ने कहा है कि आर्थिक वृद्धि (जीडीपी वृद्धित) की गणना के लिए अपनाए गए नए पैमानों के चलते 2011-12 और 2016-17 के बीच आर्थिक वृद्धि दर औसतन 2.5 फीसदी ऊंची हो गयी गयी।  

ममता ने विद्यासागर की प्रतिमा का किया अनावरण, साधा #BJP पर निशाना


उन्होंने हार्वर्ड विश्विद्यालय द्वारा प्रकाशित अपने शोध पत्र में कहा है कि भारत की सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) वृद्धि दर उपरोक्त अवधि में 4.5 प्रतिशत रहनी चाहिए जबकि आधिकारिक अनुमान में इसे करीब 7 प्रतिशत बताया गया है। 

अमित शाह का राज्यपालों से मुलाकात का सिलसिला जारी

सुब्रमणियम ने कहा, ‘‘भारत ने 2011-12 से आगे की अवधि के जीडीपी के अनुमान के लिए आंकड़ों के स्रोतों और जीडीपी अनुमान की पद्धति बदल दी है। इससे आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान अच्छा-खासा ऊंचा हो गया।’’  जीडीपी की नई श्रृंखला के तहत देश की आर्थिक वृद्धि को लेकर विवाद के बीच यह रिपोर्ट आयी है। तौर-तरीकों की समीक्षा मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में हुई। 

RJD कार्यकर्ताओं ने धूमधाम से मनाया लालू यादव का 72वां जन्मदिन

उन्होंने कहा, ‘‘आधिकारिक अनुमान के अनुसार सालाना औसत जीडीपी वृद्धि 2011-12 और 2016-17 के बीच करीब 7 प्रतिशत रही। हमारा अनुमान है कि 95त्न विश्वास के साथ इसके 3.5 से 5.5 प्रतिशत के दायरे में मानते हुए इस दौरान जीडीपी की वास्तविक वृद्धि दर 4.5 प्रतिशत रही होगी...। ’’ 

कांग्रेस की समीक्षा बैठक के भीतर और बाहर नेताओं में जमकर कहासुनी

सुब्रमणियम लिखते हैं कि विनिर्माण एक ऐसा क्षेत्र है जहां सही तरीके से आकलन नहीं किया गया। वह पिछले साल अगस्त में आॢथक सलाहकार पद से हटे। हालांकि उनका कार्यकाल मई 2019 तक के लिये बढ़ाया गया था। 

जाकिर नाइक का दावा- मुझे किसी तरह से फंसाने को बेचैन हैं जांच एजेंसियां

उन्होंने कहा कि इसका प्रभाव यह है, ‘‘वृहत आर्थिक नीति काफी बड़ी है। सुधारों को आगे बढ़ाने की गति संभवत: कमजोर हुई। आने वाले समय में आर्थिक वृद्धि को पटरी पर लाना प्राथमिकता में सबसे ऊपर होनी चाहिए....जीडीपी अनुमान पर फिर से गौर किया जाना चाहिए।’’   

मोदी सरकार ने 12 वरिष्ठ आयकर अधिकारियों पर गिराई गाज

पिछले महीने जारी आधिकारिक आंकड़े के अनुसार आर्थिक वृद्धि दर 2018-19 की चौथी तिमाही में पांच साल के न्यूनतम स्तर 5.8 प्रतिशत रही। कृषि और विनिर्माण क्षेत्र के कमजोर प्रदर्शन के कारण भारत की यह वृद्धि दर
चीन से भी कम रही। 

गुजरात में मुद्रा योजना के तहत दिए गए कर्ज में NPA 34 फीसदी बढ़ा

उन्होंने अपने शोध पत्र का लिंग देते हुए ट्वीट किया, ‘‘अत: वैश्विक वित्तीय संकट के बाद भारत की वृद्धि दर अच्छी रही लेकिन शानदार नहीं थी।’’ सुब्रमणियम ने कहा, ‘‘मेरे शोध पत्र में मूल तकनीकी प्रक्रियागत बदलाव पर जोर है। यह हाल में जीडीपी विवाद से अलग है...।’’     
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.