Monday, Oct 03, 2022
-->
Aryan Khan SRK son told NCB used to use ganja to relieve insomnia

आर्यन खान ने NCB से कहा था - अनिद्रा से राहत के लिए ‘‘गांजे’’ का सेवन करता था

  • Updated on 5/29/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को क्रूज जहाज पर नशीला पदार्थ मिलने के मामले में क्लीनचिट मिल गई है, लेकिन स्वापक नियंत्रण ब्यूरो (एनसीबी) द्वारा दायर आरोप पत्र में एजेंसी ने दावा किया है कि खान ने स्वयं बताया था कि स्नातक की पढ़ाई के दौरान वह अमेरिका में निद्रा संबंधी विकार के चलते ‘गांजे’ का सेवन करते थे।      उल्लेखनीय है कि पिछले साल अक्टूबर में क्रूज जहाज पर छापेमारी और कथित तौर पर मादक पदार्थ की बरामदगी के बाद गिरफ्तार किए गए 20 लोगों में से 14 के खिलाफ एनसीबी ने शुक्रवार को मुंबई की एक अदालत में आरोप पत्र दाखिल किया।

ONGC ने रिकॉर्ड शुद्ध लाभ कमाया, दूसरी सबसे ज्यादा मुनाफे वाली कंपनी बनी

      केंद्रीय एजेंसी ने बताया कि सबूत नहीं होने की वजह से आर्यन खान सहित छह लोगों के नाम आरोप पत्र में शामिल नहीं किए गए।   आरोप पत्र के मुताबिक आर्यन खान ने एनसीबी के समक्ष बयान दिया था कि उन्होंने वर्ष 2018 में अमेरिका में स्नातक की पढ़ाई के दौरान गांजा पीना शुरू किया था।  एजेंसी के मुताबिक आर्यन खान ने बताया कि उस समय उन्हें ‘‘ निद्रा संबंधी विकार था और उन्होंने इंटरनेट पर कुछ लेख पढ़े थे जिनमें कहा गया था कि गांजा पीने से इस समस्या से राहत मिलती है।’’  

कांग्रेस ने पूछा- ‘‘मादक पदार्थों का प्रवेश द्वार’’ बना गुजरात, PM मोदी-शाह चुप क्यों हैं?

     एनसीबी ने दावा किया कि एक अन्य बयान में आर्यन खान ने स्वीकार किया कि अपराध में संलिप्तता के संकेत देने वाले व्हाट््सऐप चैट उनके ही थे।   आरोप पत्र के मुताबिक आर्यन ने एजेंसी को बताया कि वह बांद्रा (मुंबई का इलाका) के एक (मादक पदार्थ) डीलर को जानते थे,लेकिन उसका नाम या ठिकाना नहीं जानते क्योंकि वह उनके दोस्त आचित का जानकार है। आचित इस मामले में सह आरोपी है।   उल्लेखनीय है कि इस मामले में एनसीबी ने आर्यन खान को क्लीनचिट देते हुए कहा कि उनके पास से कोई मादक पदार्थ बरामद नहीं हुआ और न ही कोई ऐसा ठोस सबूत मिला जिससे साबित हो कि उन्होंने अन्य आरोपियों के साथ मिलकर साजिश रची।    

NCB के पूर्व अधिकारी समीर वानखेड़े की मुश्किलें बढ़ी, केंद्र ने दिए कार्रवाई के आदेश

  आरोपपत्र के मुताबिक आर्यन खान और सह आरोपी अरबाज मर्चेंट द्वारा स्वेच्छा से दिए गए बयान का विश्लेषण करने पर पता लगा कि मर्चेंट ने अपने किसी बयान में दावा नहीं किया है कि उसके पास से बरामद छह ग्राम चरस आर्यन खान के सेवन के लिए थी।  इसमें आगे कहा गया कि आर्यन खान ने भी स्वेच्छा से दिए गए अपने किसी भी बयान में यह स्वीकार नहीं किया कि बरामद चरस उनके इस्तेमाल के लिए थी।  एनसीबी ने कहा, ‘‘बल्कि अरबाज ने छह अक्टूबर 2021 को दिए बयान में कहा था कि आर्यन खान ने उसे चेतावनी दी थी कि वह क्रूज पर कोई मादक पदार्थ लेकर नहीं जाए।’’   

वैश्विक महामारी में भी भारतीय स्टार्टअप का मूल्यांकन और धन बढ़ा है: पीएम मोदी

  एजेंसी ने कहा कि आर्यन खान के मोबाइल फोन को भी कभी भी औपचारिक रूप से जब्त नहीं किया गया और उनके फोन से बरामद किसी भी चैट से उनकी संलिप्तता मामले से नहीं जुड़ती। आरोप पत्र में कहा गया, ‘‘ जांच के दौरान आर्यन खान से कोई मादक पदार्थ नहीं मिला और न ही कोई ठोस सबूत हाथ लगा जिससे उनकी भूमिका या अरबाज खान या अन्य के साथ पुख्ता तौर पर साजिश में शमिल होना सिद्ध हो सके। इसलिए इस मामले में उनके खिलाफ कोई शिकायत नहीं दर्ज की जा रही है।’’      

 

comments

.
.
.
.
.