Saturday, Dec 07, 2019
asaduddin owaisi aimim questioned lk advani babri masjid demolition after ayodhya verdict

ओवैसी ने अयोध्या फैसले के बाद बाबरी मस्जिद, आडवाणी को लेकर उठाए सवाल

  • Updated on 11/10/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने सवाल किया कि अगर बाबरी मस्जिद अवैध था तो लालकृष्ण आडवाणी एवं अन्य के खिलाफ इसे ढहाये जाने के संबंध में मामला क्यों चलाया जा रहा था। यहां शनिवार रात को एक जनसभा को संबोधित करते हुए एआईएमआईएम अध्यक्ष ने कहा, 'अगर बाबरी मस्जिद तब वैध था तो इसकी जमीन उन्हें क्यों दी गयी, जिन्होंने इसे ढहाया। अगर यह अवैध है तो इस पर एक मामला क्यों चल रहा है और आडवाणी के खिलाफ मामला क्यों वापस लिया गया। अगर यह वैध है तो इसे मुझे दे दीजिए।'

अयोध्या फैसले पर जावेद अख्तर बोले- 5 एकड़ में मस्जिद की जगह बने चैरिटेबल हॉस्पिटल

शनिवार को अयोध्या मामले पर उच्चतम न्यायालय के फैसले पर प्रतिक्रिया देते हुए ओवैसी ने कहा, 'यह एक मूलभूत सवाल है... हमलोग इस फैसले से खुश नहीं हैं। बाबरी मस्जिद मेरा कानूनी हक है। मैं मस्जिद के लिये लड़ाई लड़ रहा हूं, जमीन के लिये नहीं।' शनिवार को अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद वहां राम मंदिर निर्माण का रास्ता साफ हो गया। रविवार को ओवैसी ने ट्वीट किया, 'फिर आज एक मुस्लिम क्या देखता है? वहां कई साल से एक मस्जिद थी, जिसे ढहा दिया गया।'

अयोध्या मामले को लेकर अजित डोभाल भी सक्रिय, धार्मिक नेताओं से मिले

अदालत ने उस कथित निष्कर्ष पर कि जमीन रामलला से संबंधित है, उस जगह पर निर्माण की इजाजत दी है। उन्होंने एक और ट्वीट किया, ‘‘जमीन (वैकल्पिक) देकर हमें अपमानित किया जा रहा है। हमारे साथ भिखारियों जैसा बर्ताव नहीं करें... हमलोग भारत के सम्मानित नागरिक हैं। यह लड़ाई कानूनी हक के लिये है।’’   

#VRS स्कीम: विभिन्न विकल्पों पर विचार कर रही #BSNL

  उन्होंने फिर दोहराया कि वह इस फैसले से संतुष्ट नहीं हैं। उन्होंने कहा, '...हमने न्याय मांगा था, दान नहीं। अगर आपके घर को ढहा दिया जाये और आप न्याय मांगने जायें तो आपको घर दिया जायेगा या नहीं। क्या इसे घर ढहाने वालों को दे दिया जायेगा?'

महाराष्ट्र : #BJP के हथियार डालने के बाद शरद पवार से मिलने पहुंचे उद्धव ठाकरे

ओवैसी ने कहा कि उन्हें (मुस्लिमों को) मस्जिद के लिये लड़ाई लडऩी चाहिए। उन्होंने दावा किया कि आज भी भाजपा और आरएसएस के पास कई मस्जिदों की सूची है जिसे वे ‘‘बदलना’’ चाहते हैं। उन्होंने शीर्ष अदालत के फैसले को लेकर समाजवादी पार्टी, बसपा, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी समेत अन्य की ‘‘चुप्पी’’ पर सवाल उठाया। उन्होंने कहा कि वह बाबरी मस्जिद विध्वंस के बारे में आने वाली पीढ़ी को बतायेंगे। ओवैसी ने समुदाय के नौजवानों से अनुरोध किया कि वे राजनीति में आयें और उनकी पार्टी का सहयोग करें।

महाराष्ट्र : NCP ने समर्थन के बदले शिवसेना के सामने रखी अहम शर्त

शनिवार को अयोध्या फैसला सुनाये जाने के तुरंत बाद ओवैसी ने कहा था कि संवेदनशील मामले में उच्चतम न्यायालय का फैसला ‘‘तथ्यों पर आस्था की जीत है’’ और उन्होंने मस्जिद निर्माण के लिये वैकल्पिक पांच एकड़ जमीन दिये जाने को खारिज करने का सुझाव दिया।

झारखंड विधानसभा चुनाव : भाजपा ने जारी की उम्मीदवारों की पहली सूची

comments

.
.
.
.
.