asha bhosle birthday special

B'day spl: पति की मौत के बाद आशा भोसले ने मान ली थी जिंदगी से हार, इस आदत ने जगाई जीने की इच्छा

  • Updated on 9/7/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पूरे देश को अपनी आवाज का कायल बनाने वाली आशा भोसले (Asha bhosle) जिंदगी के उस दौर से गुजर चुकीं हैं, जब वो जीना भी नहीं चाहती थीं। पति की मौत के बाद कुछ इस तरह उन्होंने जिंदगी से मुंह मोड़ लिया था कि मानो अब जीवन में कुछ बचा ही नहीं। लेकिन उन्हीं की एक अजीब आदत ने उनको बचा लिया था और वो डिप्रेशन से बाहर आने लगीं। इस आदत के बारे में आप जानेंगे तो खुद हैरान रह जाएंगे। 

Navodayatimes

नील नितिन मुकेश ने आशा भोसले के साथ गाया अपना पसंदीदा गाना, "जाने जाना"

आरडी बर्मन से की थी दूसरी शादी
आशा ताई ने राहुल देव बर्मन (rd burman) के साथ दूसरी शादी की थी। अपनी पहली शादी में उन्होंने कई दुखों का सामना किया था। उनके ससुराल वालें उन्हें गाने से मना किया करते थे। जिसके चलते वो सिर्फ रसोईघर में खाना ही बनाती थीं। लगातार खाना बनाने से उनको लगने लगा की खाना बनाना उनका स्ट्रेस बूस्टर है। उनको खाना बनाना अच्छा लगता था। इससे वो अपनी सभी परेशानियां भूल जाती थीं।

आशा भोसले के साथ सुर मिलाते नजर आए नील नितिन मुकेश, गाया किशोर कुमार का ये अनमोल गाना

इस वजह से छोड़ आई थीं पहले पति को
लेकिन गाना भी उनके जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा था। जो वो किसी भी कीमत पर छोड़ना नहीं चाहती थीं। इसलिए तमाम दुख सहने के बाद वो अपने पति को छोड़ मुंबई आ गईं। इसके बाद उन्हें गाने का मौका मिलता गया जिस दौरान उनकी मुलाकात आरडी बर्मन से हुई। आरडी बर्मन को भी आशा भोसले की ही तरह खाना बनाने और खाने का बेहद शौक था। वो अक्सर आशा ताई के घर हर रविवार खाना खाने जाते थे।

Navodayatimes

जब चीन में पीएम मोदी के लिए बजा 'तू-तू है वही दिल ने जिसे अपना कहा...

पति के मौत के बाद सदमे में चली गई थीं
वहीं इसी बीच दोनों ने एक दूसरे से शादी कर ली। दोनों एक साथ काफी खुश थे। लेकिन एक दिन ऐसा आया जब इनका जीवन बिखर गया। आरडी बर्मन की मौत ने आशा भोसले को तोड़कर रख दिया। वो उनकी मौत के बाद सदमे में चली गई थीं। यहां तक की उन्होंने जीवन जीने की ख्वाहिश भी छोड़ दी थी। 

Navodayatimes

पुण्यतिथि: नहाते हुए भी म्यूजिक कम्पोज कर लेते थे पंचम दा, पढ़ें मजेदार किस्सा

खाना बनाने की आदत ने बचाई जिंदगी
लेकिन उनके दोस्तों ने उस वक्त उनका साथ नहीं छोड़ा। उनके सभी दोस्त अक्सर उनके घर जाते और आशा भोसले से खाना बनाने की मांग करते। वो उदास मन के साथ रसोई में चली जातीं और खाना बनाने लगतीं। धीरे-धीरे उन्हें लगने लगा कि वो जो खाना बना रही हैं उसको लोगों के हिसाब से स्वादिस्ट होना चाहिए।

'जय- जय शिव शंकर' गाने में छिपा है 50000 रुपए का ये राज, जिसे पढ़कर आप हो जाएंगे हैरान

इसके बाद वो जब भी रसोई में खाना बनाने जातीं तो हमेशा स्वाद का ध्यान देतीं। ऐसा चलता गया और इसी बीच आशा भोसले को भी लगने लगा की वो अच्छा महसूस कर रही हैं। वो इस तरह से डिप्रेशन से भी बाहर आने लगीं। इसी के साथ उन्होंने अपना जीवन फिर से खूबसूरतू के साथ जीना शुरू कर दिया। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.