Sunday, Jan 23, 2022
-->
ashes-of-farmers-killed-in-lakhimpur-violence-immersed-in-arabian-sea-rkdsnt

लखीमपुर हिंसा में मारे गए किसानों की अस्थियां अरब सागर में विसर्जित 

  • Updated on 11/28/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में पिछले महीने हुई हिंसा में जान गंवाने वाले चार किसानों की अस्थियों के एक हिस्से को रविवार को यहां गेटवे ऑफ इंडिया के पास अरब सागर में विसर्जित किया गया। भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के नेता राकेश टिकैत सहित सैकड़ों किसानों और उनके नेताओं ने अस्थियों वाले कलशों के साथ दक्षिण मुंबई के आजाद मैदान से लगभग 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित गेटवे ऑफ इंडिया तक तक एक जुलूस निकाला। 

TIT परीक्षा का प्रश्नपत्र लीक : विपक्ष के निशाने पर आई योगी सरकार, लाखों परीक्षार्थी बेहाल

वाहन पर रखे जाने से पहले कलशों पर आजाद मैदान में पुष्पांजलि अर्पित की गई। यात्रा को पुलिस सुरक्षा मुहैया कराई गई। संयुक्त शेतकारी कामगार मोर्चा (एसएसकेएम) के बैनर तले आयोजित किसान महापंचायत में हिस्सा लेने के लिए किसान और नेता मैदान में एकत्र हुए थे। जुलूस के गेटवे आफ इंडिया पहुंचने के बाद, चुनिंदा किसान कलशों के साथ एक नाव पर सवार हुए और मंत्रोच्चारण के बीच उन्हें बीच समुद्र में विर्सिजत किया। 

त्रिपुरा हिंसा के बावजूद नगर निकाय चुनाव में भाजपा का शानदार प्रदर्शन

एसएसकेएम की एक विज्ञप्ति में कहा गया कि लखीमपुर खीरी घटना में जान गंवाने वाले किसानों की‘शहीद कलश यात्रा‘, 27 अक्टूबर को पुणे से शुरू हुई और महाराष्ट्र के 30 से अधिक जिलों से गुजरी।‘शहीद कलश यात्रा’27 नवंबर को छत्रपति शिवाजी महाराज की प्रतिमा, मुंबई में बाबासाहेब आंबेडकर की चैत्य भूमि, शहीद बाबू जेनू स्मारक और महात्मा गांधी की प्रतिमा तक भी पहुंची। 

राकेश टिकैत ने की किसानों के लिए MSP गारंटी के लिए कानून की मांग

संयुक्त शेतकारी कामगार मोर्चा के अशोक धवले ने कहा कि यह यात्रा रविवार को 1950 के दशक के संयुक्त महाराष्ट्र आंदोलन के 106 शहीदों के स्मारक हुतात्मा चौक भी पहुंची। उन्होंने बताया कि शहीदों की अस्थियां एक विशेष कार्यक्रम में गेटवे ऑफ इंडिया के पास अरब सागर में विर्सिजत की गईं। पिछले महीने उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी हिंसा में आठ लोग मारे गए थे। 

मधुमेह देखभाल के लिए सरकार का सब्सिडी देना जरूरी: CJI रमण

मारे गए आठ लोगों में से चार किसान थे, जिन्हें उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य का स्वागत करने के लिए जा रहे भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा चलाए जा रहे वाहनों से कथित तौर पर कुचल दिया गया था। अन्य चार में भाजपा कार्यकर्ता, केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा का चालक और एक निजी टेलीविजन चैनल के लिए काम करने वाला एक पत्रकार था।      

सावरकर की तारीफ में केंद्रीय सूचना आयुक्त उदय माहूरकर ने पढ़े कसीदे

comments

.
.
.
.
.