Tuesday, Oct 04, 2022
-->
Ashok Gehlot Congress says PM Modi takes names great men idea quite opposite rkdsnt

महापुरुषों का बस नाम लेते हैं पीएम मोदी, विचार बिलकुल उल्टे : अशोक गहलोत

  • Updated on 2/15/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए सोमवार को कहा कि वह अपने भाषणों में जिन महापुरुषों का जिक्र करते हैं उनके विचार, मोदी की सोच से बिलकुल उल्टे थे। साथ ही गहलोत ने पत्रकारों और कार्यकर्ताओं को जेल भेजे जाने का जिक्र करते हुए कहा कि देश में हालात बहुत गंभीर हैं। विधानसभा में राज्यपाल के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर हुई चर्चा का जवाब देते हुए गहलोत ने सदन कहा कि मोदी बस नाम लेते हैं जबकि ‘‘मैं दावे कह सकता हूं कि इन महापुरुषों के विचार बिलकुल उल्टे हैं प्रधानमंत्री मोदी के विचारों से।’’ 

किसान आंदोलन के बीच सुप्रीम कोर्ट के पैनल ने की कृषि विशेषज्ञों से चर्चा

उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार अभियान में मोदी श्यामा प्रसाद मुखर्जी का नाम नहीं ले रहे केवल रबीन्द्रनाथ ठाकुर टैगोर का नाम ले रहे हैं। गहलोत ने कहा, ‘‘खुशी है कि वह गुरुवर ठाकुर का नाम लेते हैं। अच्छी बात है। रबीन्द्रनाथ ठाकुर का नाम लें, महात्मा गांधी का नाम लें, सरदार (वल्लभ भाई) पटेल का नाम लें, डॉ. (भीम राव) आंबेडकर का नाम लें, कोई दिक्कत नहीं। ये सभी लोग बड़े महापुरुष हुए हैं।’’ 

हाई कोर्ट का सुशांत राजपूत की बहन के खिलाफ FIR खारिज करने से इनकार

गहलोत विपक्षी भाजपा की ओर इशारा करते हुए कहा, ‘‘आपके आरएसएस भक्तों ने 50 साल तक तिरंगा झंडा नहीं लहराया देश में। अब लहराने लग गए हैं। सत्ता इतनी प्यारी हो गयी है आपको कि सबकुछ भूलकर ...कोई विचारधारा नहीं, न नीति है, न कार्यक्रम, पर हिंदुत्व की बात करो और सत्ता में कैसे आओ। इसलिए बस नाम लेते हैं प्रधानमंत्री! मैं दावे कह सकता हूं कि इन महापुरुषों के विचार बिलकुल उल्टे हैं मोदी के विचारों से। फिर भी नाम लेते हैं आप लोग।’’ 

सचिन समेत सेलिब्रिटी ट्वीट मामले में ठाकरे सरकार के निशाने पर BJP आईटी सेल

उन्होंने विपक्षी भाजपा के संदर्भ में कहा, ‘‘आप तो सरकारें गिराओ, इनकम टैक्स के छापे पड़वाओ, ईडी को घर में भेजो ... यह धंधा कब तक करते रहोगे आप लोग? बचो इससे बचो। समझाओ अपने नेताओं को दिल्ली में। वरना जनता आने वाले समय में आपको माफ नहीं करेगी। वह आपको जिस प्रकार फर्श से अर्श पर ले गयी, अर्श से फर्श पर भी ले आएगी।’’ मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने पूरे छह साल में जवाहर लाल नेहरू का नाम लिया, इंदिरा गांधी की शहादत का जिक्र किया, राजीव गांधी के योगदान की बात की। गहलोत ने कहा, ‘‘उनकी गिनती इतनी पक्की है कि भूल से भी इंदिरा गांधी, राजीव गांधी का नाम नहीं आना चाहिए। भूल से भी जवाहर लाल नेहरू का नाम नहीं आना चाहिए।’’ 

कन्हैया का मोदी सरकार पर तंज, बोले- उनके बच्चे BCCI के अध्यक्ष बनेंगे और आपके...

उन्होंने कहा, ‘‘उन जवाहर लाल नेहरू के बारे में भाजपा व आरएसएस वाले क्या क्या टिप्पणी करते हैं। मैं सदन को बता नहीं सकता। क्या देश का दुर्भाग्य नहीं है कि ऐसे लोग सत्ता में बैठे हुए हैं जो देश के प्रथम प्रधानमंत्री के लिए एक शब्द नहीं बोल पाते?’’ गहलोत ने केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ राजस्थान विधानसभा द्वारा पारित विधेयकों को राज्यपाल द्वारा आगे नहीं भेजे जाने का भी जिक्र किया।  उन्होंने कहा कि गोमाता का नाम तो भाजपा वाले लेते रहते हैं कि लेकिन राज्य में गायों के लिए निदेशालय उनकी सरकार ने बनाया और गऊशालाओं को अनुदान देने काम भी उन्होंने ही शुरू किया। 

केजरीवाल कृषि कानूनों के खिलाफ यूपी में किसान महापंचायत को करेंगे संबोधित

इससे पहले नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया ने विभिन्न योजनाओं, बेरोजगारी भत्ते व महंगी बिजली को लेकर राज्य सरकार को घेरा। चर्चा के बाद सदन ने धन्यवाद प्रस्ताव को ध्वनिमत से स्वीकार कर लिया।  वहीं मुख्यमंत्री के जवाब के बाद संसदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल ने कोटा में आरएसएस के एक कार्यकर्ता पर हमले को लेकर उनके खिलाफ लगे आरोपों का जवाब दिया। उन्होंने नेता प्रतिपक्ष कटारिया को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘आपको अधिकार देता हूं आप जांच करवा लें और जांच करवाकर रिपोर्ट सदन में रख दें। अगर मैं कसूरवार पाया गया तो इस्तीफा दे दूंगा वरना (भाजपा विधायक) मदन दिलावर से माफी मंगवा देना। इस्तीफा नहीं चाहिए बस माफी मंगवा देना।’’      

 

 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

 

 

comments

.
.
.
.
.