Thursday, Jun 17, 2021
-->
ashok gehlot endorsed rahul gandhi suggestion of nationwide lockdown rkdsnt

गहलोत ने राहुल गांधी के देशव्यापी लॉकडाउन के सुझाव का समर्थन किया

  • Updated on 5/6/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल।राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कोरोना वायरस संक्रमण पर काबू पाने के लिए देश भर में पूर्ण लॉकडाउन लगाने के कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी के सुझाव का समर्थन करते हुए बृहस्पतिवार को कहा कि पूर्ण नियोजित लॉकडाउन से संक्रमण की कड़ी तोडऩे में मदद मिल सकती है।     गहलोत ने ट्वीट किया,’मैं राहुल गांधी के इस आह्वान का पूरी तरह से समर्थन करता हूं कि देशव्यापी लॉकडाउन ही अब एकमात्र उपाय बचा है। एक साल से अधिक समय से हमारे डॉक्टर, मेडिकल स्टाफ देश के लिए भारी कार्यभार तले काम कर रहे हैं। हमने उनमें से कई को गंवा दिया है। 

रंगराजन बोले- मोदी सरकार को सभी के कोविड-19 टीकाकरण की जिम्मेदारी लेनी चाहिए

मुख्यमंत्री के अनुसार संक्रमण की दूसरी लहर हमारे सामने चुनौती बनकर खड़ी है और विशेषज्ञों तथा डाक्टरों का मानना है कि चाहे कितनी भी तैयारी हो हम पहले ही आक्सीजन, दवाईयों एवं अन्य उपकरणों की कमी का सामना कर रहे हैं और जल्द ही हमें चिकित्सा स्टाफ की कमी का सामना भी करना पड़ सकता है। गहलोत के अनुसार निर्धनतम जनता, प्रवासी श्रमिकों व आम लोगों को पिछले साल जैसे संकट और दुश्वारियों से बचाने के लिए एक सुनियोजित लॉकडाउन इस संक्रमण की कड़ी तोडऩे में मदद कर सकता है और देश को बेहतर तैयारी में मदद कर सकता है। 

कांग्रेस की मांग- विदेश मंत्री जयशंकर, स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन को बर्खास्त करें पीएम मोदी  

उल्लेखनीय है कि राजस्थान सरकार राज्य में जारी आंशिक लॉकडाउन को सख्त करने पर विचार कर रही है। अशोक गहलोत की अध्यक्षता में बुधवार को हुई राज्य मंत्रिपरिषद की बैठक में इस बारे में पांच मंत्रियों के एक समूह का गठन किया। यह मंत्री समूह संभावित कदमों पर विचार कर आज, बृहस्पतिवार को अपने सुझाव देगा। जिसके आधार पर अंतिम निर्णय किया जाएगा।     

केन्द्र सरकार को टीके की एक ही तरह की दर तय करनी चाहिए : पायलट 
कांग्रेस नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने बृहस्पतिवार को एक बार फिर से देश में कोरोना वायरस प्रतिरक्षण टीके की एक ही कीमत तय करने की मांग करते हुए कहा कि एक ही टीके के देश में अलग अलग दाम नहीं होने चाहिए। अपने विधानसभा क्षेत्र टोंक के दौरे के दौरान पायलट ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि ‘‘ टीके के दाम अलग अलग नहीं होने चाहिए.. ऐसा क्यों है कि केन्द्र सरकार को 150 रुपये में मिलेगा और राज्य सरकार को 400-300 रुपये में मिल रहा है.. वो ही टीका है वो ही कंपनी है तो उसका एक दाम होना चाहिए और सामान्य रेट होना चाहिए जो भारत सरकार को तय करना चाहिए।’’ 

जानवरों में कोरोना वायरस को लेकर केंद्र ने साफ किया अपना रूख 

उन्होंने कहा कि ‘‘भारत में जब सीमेंट, स्टील, हवाई यात्रा के दाम का नियंत्रण हो सकता है तो जान बचाने वाले टीके के दाम पर नियंत्रण क्यों नहीं हो सकता। और उस टीके की कंपनी को मुनाफा कमाना ही है तो जरूरी है कि इस कोवैक्सिन में ही मुनाफा कमाये?’’ उन्होंने कहा कि कंपनियां बहुत सी दवाएं बनाती हैं उसमें मुनाफा कमा सकती है लेकिन आज के समय जो मुनाफे की बात कर रहा हैं वह बिल्कुल बेईमानी है.. गलत है.. मैं ऐसा मानता हूं लोगों का नि:शुल्क टीकाकरण होना चाहिए।’’ पायलट ने कहा कि सभी जगह ऑक्सीजन की किल्लत थी और हमने भारत सरकार से इसका आवंटन बढ़वाया है, केन्द्र सरकार को ऑक्सीजन आवंटन में पारर्दिशता बरतनी चाहिए।     

अखिलेश बोले- लोकतांत्रिक प्रणाली के खिलाफ साजिश कर रही है भाजपा, चुकानी पड़ेगी कीम

comments

.
.
.
.
.