Tuesday, Jul 23, 2019

गर्भावस्था में खतरनाक हो सकता है अस्थमा का अटैक, ऐसे रखें ख्याल

  • Updated on 7/1/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटलः वैसे तो अस्थमा (Asthma) का अटैक किसी भी व्यक्ति के लिए काफी खतरनाक साबित हो सकता और इससे उसकी जान भी जा सकती है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि प्रेग्नेंसी के दौरान अस्थमा के अटैक से होने वाले गंभीर खतरे और भी बढ़ जाते हैं। खासकर, प्रेग्नेंसी के शुरुआती समय में।

अब Vodafone के 129 प्लान में मिलेगा 500 MB अधिक डेटा

इसलिए अगर किसी महिला को अस्थमा नहीं भी है, तब भी उन्हें इसकी जांच जरूर से करवा लेनी चाहिए, ताकि सही समय पर अस्थमा का सही इलाज कराया जा सके। बता दें गर्भावस्था के दौरान दमा (Asthma) का अटैक गर्भवति महिला और उसके बच्चे दोनों के लिए जानलेवा साबित हो सकती है। इसलिए आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि कैसे आप गर्भावस्था के दौरान अस्थमा से अपना बचाव कर सकती हैं। 

4 जुलाई को भारत में लॉन्च होगा Xiaomi का Redmi 7A स्मार्टफोन्स, जाने क्या होगी कीमत

किसी भी बीमारी से बचाव के लिए जरूरी है कि सबसे पहले इसके लक्षण के बारे में जान लिया जाए, ताकि सही समय पर पता लगाया जा सके कि आखिर आपको क्या समस्या है। तो चलिए सबसे पहले बात करते हैं दमा (Asthma) के लक्षणों के बारे में-
दमा के लक्षण
- सांस लेने में दिक्कत महसूस होना
- सीने में सूजन, कसाव या जकड़न का होना
- बैचेनी महसूस होना
- सिर का भारी होना और थकावट लगना
-  बार-बार उल्टी होना या उल्टी जैसा महसूस होना

सिगरेट ही नहीं E-Cigarett भी है खतरनाक, पीते वक्त नाबालिग के मुंह में हुआ ब्लास्ट और उड़ गया जबड़ा

गर्भावस्था में अस्थमा से बचाव
- डॉक्टर के संपर्क में रहें
- समय पर अपनी दवाईयां(medicine) लेते रहें
- धूल, मिट्टी, धुआं और दुर्गंध से दूर रहें
- अस्थमा होने पर धूम्रपान से दूर रहें और धूम्रपान करने वाले लोगों से भी दूरी बनाएं
- अस्थमा अटैक होने पर तुरंत डॉक्टर(doctors) को संपर्क करें अन्यथा इनहेलर का प्रयोग करें
- पालतू जानवरों के बहुत करीब ना जाएं और उन्हें हर सप्ताह नहलाएं
- अस्थमा हो तो हमेशा अपनी दवाएं और कंट्रोलर इन्हेलर अपने पास रखें

बेवजह की चिंता किसी खतरनाक बीमारी का लक्षण तो नहीं! जानिए कैसे मिलेगा छुटकारा

अस्थमा के कारण
अस्थमा के दो कारण होते हैं, पहला आनुवांशिक और दूसरा पारिवारिक। इसके अलावा अस्थमा को बढ़ाने वाले अन्य कई और कारण भी होते हैं। जैसे-
- घर के अंदर जमा धूल, मिट्टी और पालतू पशुओं के ज्यादा करीब रहना।
- घर के बाहर का प्रदूषण जो श्वास नली को प्रभावित करती है।
- वायरस, जीवाणुओं का संक्रमण, कुछ दवाएं जैसे एस्पिरिन, तनावग्रस्त रहना आदि को शामिल किया जाता है। एसिडिटी, प्रदूषण, धूम्रपान,अत्यधिक मोटापा और कुछ हार्मोन्स के कारण भी दमा की समस्या बढ़ सकती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.