Monday, Nov 30, 2020

Live Updates: Unlock 6- Day 29

Last Updated: Sun Nov 29 2020 09:59 PM

corona virus

Total Cases

9,428,477

Recovered

8,842,289

Deaths

137,121

  • INDIA9,428,477
  • MAHARASTRA1,820,059
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA882,608
  • TAMIL NADU779,046
  • KERALA599,601
  • NEW DELHI566,648
  • UTTAR PRADESH541,873
  • WEST BENGAL526,780
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • ODISHA317,789
  • TELANGANA268,418
  • RAJASTHAN262,805
  • CHHATTISGARH234,725
  • BIHAR234,553
  • HARYANA230,713
  • ASSAM212,483
  • GUJARAT206,714
  • MADHYA PRADESH203,231
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB150,805
  • JAMMU & KASHMIR109,383
  • JHARKHAND104,940
  • UTTARAKHAND73,951
  • GOA45,389
  • HIMACHAL PRADESH38,977
  • PUDUCHERRY36,000
  • TRIPURA32,412
  • MANIPUR23,018
  • MEGHALAYA11,269
  • NAGALAND10,674
  • LADAKH7,866
  • SIKKIM4,967
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,631
  • MIZORAM3,806
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,325
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
atal tunnel inauguration pm modi check map, route and distance from manali to leh prsgnt

पीएम मोदी ने देश को समर्पित किया ‘अटल टनल’, 9.02 किलोमीटर लंबी सुरंग की ये है खासियत....

  • Updated on 10/3/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने शनिवार 3 अक्टूबर को मनाली-लेह मार्ग (Manali-Leh Road) पर सामरिक महत्व की 9.02 किलोमीटर लंबी अटल टनल (Atal Tunnel) रोहतांग का उद्धघाटन कर उसे देश को समर्पित कर दिया।

हिमालय के पहाड़ों को काटकर बनाई गई यह सुरंग समुद्रतल से 3,060 मीटर की ऊंचाई पर बनाई गई है।  यह टनल बॉर्डर रोड ऑर्गनाइजेशन (BRO) ने बनाई है।

इस सुरंग के बन जाने से कई ऐसे रास्ते और इलाके थे जो लोगों की पहुंच से सर्दियों की बर्फबारी के कारण छूट जाया करते थे, वो अब पूरे साल सम्पर्क में रहेंगे। यह सुरंग किस तरह से ख़ास है आइये आपको बताते हैं।

कम होगी दूरी 
इस सुरंग के बन जाने से मनाली और लेह की दूरी कम हो जाएगी। मौजूदा समय में रोहतांग पास से मनाली से लेह जाने में 474 किलोमीटर का सफर करना होता है। लेकिन अटल टनल से यह दूरी घटकर 428 किलोमीटर ही रह जाएगी। जहां पहले मनाली से सिस्‍सू तक पहुंचने में 5 से 6 घंटे लग जाते थे, अब वहीँ सिर्फ एक घंटे में पहुंचा जा सकता है।

भारी बर्फबारी के चलते सर्दियों में मनाली-लेह हाइवे पर रोहतांग, बारालचा, लुंगालाचा ला और टालंग ला जैसे पास तक पहुंचना नामुमकिन हो जाता है। लेकिन इस सुरंग के बन जाने से यह अब आसान होगा।


बेहतरीन टेक्‍नोलॉजी का इस्तेमाल
इस सुरंग में कटिंग एज टेक्‍नोलॉजी का इस्‍तेमाल किया गया है। इस सुरंग का आकर घोड़े की नाल की तरह है जो सिंगल ट्यूब डबल लेन वाली है। यह 10.5 मीटर चौड़ी है। इसके भीतर 3.6 x 2.25 मीटर की फायरप्रूफ इमर्जेंसी इग्रेस टनल बनाई गई है।

इस सुरंग को बनाने में 10 साल लगे हैं। इसे 10,000 फीट की ऊंचाई पर बनाया गया है इसे हर रोज 3,000 कारों और 1,500 ट्रकों का भार सहने के हिसाब से बनाया गया है।

राहुल का ऐलान, कहा- दुनिया की कोई भी ताकत मुझे हाथरस के परिवार से मिलने से नहीं रोक सकती

इमर्जेंसी कम्‍युनिकेशन के लिए सुविधा 
इस सुरंग में वाहनों के पहले और आखिरी 400 मीटर के लिए स्‍पीड लिमिट 40 किलोमीटर प्रतिघंटा के हिसाब से तय की गई है। बाकी दूरी में गाड़ी 80 किलोमीटर प्रतिघंटे की स्‍पीड से चलाई जा सकेगी। इस सुरंग के दोनों सिरों पर एंट्री बैरियर्स लगे होंगे। हर 150 मीटर पर इमर्जेंसी कम्‍युनिकेशन के लिए टेलीफोन कनेक्‍शंस भी अवेलेबल हैं।

बिहार चुनाव: महागठबंधन में सीटों के बंटवारे को लेकर बनी सहमति, 70 पर लड़ेगी कांग्रेस!

सुरक्षा के इंतजाम
इस सुरंग में सुरक्षा के इंतज़ाम भी बेहतरी के साथ किए गए हैं। इस सुरंग में 60 मीटर तक फायर हाइड्रेंट मैकेनिज्‍म है जिससे आग लगने की सूरत में उसपर जल्‍दी काबू पाया जा सकेगा। इतना ही नहीं, इसमें हर 250 मीटर तक सीसीटीवी कैमरों से लैस ऑटो इन्सिडेंट डिटेक्‍शन सिस्‍टम लगे हैं। इसके साथ ही हर एक किलोमीटर पर हवा की मॉनिटरिंग की जाने की व्‍यवस्‍था की गई है।

वाहन चालकों की सुविधा के लिए हर 25 मीटर पर आपको एग्जिट और इवैकुएशन के साइन लगे मिलेंगे। सबसे अच्छी बात ये है कि इस पूरी सुरंग के लिए एक ब्रॉडकास्टिंग सिस्‍टम का सेटअप इसमें लगाया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.