Wednesday, Mar 20, 2019

हिमाचल में हिमस्खलन से एक जवान शहीद, 5 के और दबे होने की आशंका

  • Updated on 2/20/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। हिमाचल प्रदेश से देश और भारतीय सेना के लिए एक बड़ी दुख की खबर आई है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक राज्य के किन्नौर जिले में भारत-चीन सीमा पर हिमस्खलन होने से सेना का एक जवान शहीद हो गया है जबकि 5 जवानों के बर्फ के नीचे दबे होने की आशंका है। अधिकारियों ने जानकारी देते हुए बताया कि ये सभी जवान जम्मू-कश्मीर राइफल्स इकाई के हैं।

किन्नौर के उपायुक्त गोपालचंद ने मीडियाकर्मियों को बताया कि एक जवान का शव बरामद किया गया है, जबकि अभी पांच और जवानों का पता नहीं चल पाया है। गोपालचंद ने बताया कि, चीन-भारत सीमा पर शिपकाला के समीप करीब 11 बजे यह हिमस्खलन हुआ, लेकिन बर्फ ज्यादा होने की वजह से राहत बचाव कार्य में समय लग गया।

उन्होंने बताया कि, भारत तिब्बत सीमा पुलिस के जवान भी हिमस्खलन में फंस गये थे। हालांकि उन्हे बाहर निकाल लिया गया और सभी सुरक्षित हैं।

बर्फबारी, भूस्खलन से जम्मू श्रीनगर राजमार्ग बाधित
जम्मू कश्मीर में बनिहाल के पास जवाहर सुरंग के आसपास बर्फबारी होने और बारिश की वजह से कई स्थानों पर हुए भूस्खलन के कारण बुधवार को जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर गाड़ियां कई घंटों तक फंसी रहीं। अधिकारियों ने बताया कि 270 किलोमीटर लंबे राजमार्ग पर रात में बनिहाल और रामबन के बीच डिगडोल, बैटरी चेश्मा और मरूग पर कई जगह भूस्खलन हुआ। 

इस वजह से कश्मीर घाटी को सभी मौसम में देश के अन्य हिस्सों से जोडऩे वाली सड़क पर यातायात अवरूद्ध हो गया। अधिकारियों ने बताया कि तत्काल सड़क पर से मलबा आदि हटाने का काम शुरू किया गया। उधमपुर में फंसी गाडिय़ों को दोपहर के आसपास जाने की अनुमति दी गई। उन्होंने बताया कि और भूस्खलन के खतरे को देखते हुए मध्य रात्रि के आसपास यातायात रोक दिया गया था। 

इससे जम्मू जाने वाली सैकड़ों गाड़ियां फंस गईं। अधिकारियों ने बताया कि राजमार्ग के दोबारा खुलने पर भूस्खलन जोखिम वाले इलाकों में फंसी गाड़ियों को पहले रवाना किया गया। उन्होंने कहा कि जवाहर सुरंग पर करीब छह इंच तक बर्फबारी हुई है, जिसे हटा दिया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.