Wednesday, Jan 29, 2020
ayodhya babri masjid dispute mediation panel submitted status report to supreme court

अयोध्या बाबरी मस्जिद विवाद: मध्यस्थता पैनल ने सुप्रीम कोर्ट को सौंपी स्टेटस रिपोर्ट

  • Updated on 8/1/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। अयोध्या में राम मंदिर बाबरी मस्जिद भूमि विवाद मामले को लेकर गठित मध्यस्थता पैनल ने आज सुप्रीम कोर्ट को अपनी स्टेटस रिपोर्ट सौंप दी है। इस रिपोर्ट में मामले के हर पक्षकार के नजरिए और दलीलों का व्यापक रूप से जिक्र किया गया है। 

अयोध्या प्रकरण: SC ने दस्तावेजों के अनुवाद में विसंगतियों की याचिका लिया संज्ञान

सुप्रीम कोर्ट अब इस मामले पर कल यानि शुक्रवार को सुनवाई करेगा। इसके साथ ही फाइनल रिपोर्ट देखने के बाद सुप्रीम कोर्ट में रोजाना सुनवाई पर भी फैसला होगा। बता दें कि राम मंदिर बाबरी मस्जिद भूमि विवाद को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने मध्यस्थता कमेटी की थी और इसे निश्चित समय सीमा में अपनी रिपोर्ट देने का निर्देश दिया गया था। 18 जुलाई को मध्यस्थता कमेटी को हिंदू और मुस्लिम पक्षकारों के बीच सहमति बनाने के लिए 31 जुलाई तक वार्ता जारी रखने का निर्देश दिया था। 

सुप्रीम कोर्ट: मुकद्दमों के बढ़ते बोझ के तहत बढ़ी जजों की संख्या, अब होंगे 34 न्यायाधीश

दिल्ली के उत्तर प्रदेश सदन में मध्यस्थता कमेटी की बैठक हुई थी, लेकिन जिसमें सहमति नहीं बन पाई। आपसी सहमति से अयोध्या भूमि विवाद को हल करने की कमेटी की यह अंतिम कोशिश थी। मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के नेतृत्व में सुप्रीम कोर्ट की एक खंडपीठ 2 अगस्त को मामले की सुनवाई करेगी। 

10 फीसदी आर्थिक आरक्षण पर मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में दी दलीलें

मध्यस्थता कमेटी के अध्यक्ष सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस एफएमआई खलीफुल्ला हैं। साथ ही इसमें दो अन्य मेंबर आध्यात्मिक गुरु श्रीश्री रविशंकर और वरिष्ठ वकील श्रीराम पांचू हैं। 31 जुलाई तक सुप्रीम कोर्ट ने मध्यस्थतों से कोर्ट की निगरानी में गोपनीय प्रक्रिया जारी रखने का निर्देश दिया था। 

हैप्पीनेस क्लास: केजरीवाल सरकार की पहल से प्रभावित नजर आए #CJI गोगोई

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.