Monday, Nov 18, 2019
ayodhya case verdict pakistan shah mehmood qureshi objection on timing

PAK विदेश मंत्री ने Ayodhya Verdict पर उठाए सवाल, कहा- इसको थोड़े दिन टाला नहीं जा सकता था?

  • Updated on 11/9/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पाकिस्तान (Pakistan) के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी (Shah Mehmood Qureshi) ने करतारपुर गलियारा (Kartarpur Corridor) खोले जाने के दिन अयोध्या मामले (Ayodhya Case) में आए फैसले पर सवाल उठाते हुए कहा कि वह इस तरह के खुशी के मौके पर दिखाए गई "असंवेदनशीलता" से "बेहद दुखी" हैं।

Ayodhya Case Verdict: विवादित जगह पर बनेगा राम मंदिर, मस्जिद के लिए अलग जमीन

गौरतलब है कि भारतीय सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने शनिवार को अयोध्या (Ayodhya) में विवादित स्थल राम जन्मभूमि (Ram Janmabhoomi) पर मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त करते हुए केंद्र सरकार को निर्देश दिया कि 'सुन्नी वक्फ बोर्ड' (Sunni Waqf Board) को मस्जिद के निर्माण के लिए पांच एकड़ भूमि आवंटित की जाए।

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई (Ranjan Gogoi) की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने भारतीय इतिहास की दृष्टि से बेहद महत्वपूर्ण इस व्यवस्था के साथ ही करीब 130 साल से चले आ रहे इस संवेदनशील विवाद का पटाक्षेप कर दिया। इस विवाद ने देश के सामाजिक ताने बाने को तार तार कर दिया था। 'डॉन न्यूज टीवी' ने कुरैशी के हवाले से कहा, "क्या इसको थोड़े दिन टाला नहीं जा सकता था? मैं इस खुशी के मौके पर दिखाए गई "असंवेदनशीलता" से "बेहद दुखी" हूं।"

करतारपुर कॉरिडोर: उद्घाटन समारोह में मोदी ने PAK PM इमरान खान को कहा धन्यवाद

करतारपुर गलियारे के बहुप्रतीक्षित उद्घाटन का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, "आपको इससे ध्यान भटकाने की बजाय इस खुशी के मौके का हिस्सा बनना चाहिए था। यह विवाद संवेदनशील था और उसे इस शुभ दिन का हिस्सा नहीं बनाना चाहिए था।" यह गलियारा गुरदासपुर में बाबा नानक गुरुद्वारे को पाकिस्तान के करतारपुर स्थित दरबार साहिब से जोड़ता है। यहां गुरु नानक देव ने अपने जीवन के अंतिम वर्ष बिताए थे।

गुरुद्वारा करतारपुर साहिब पाकिस्तान की रावी नदी के पास स्थित है और पंजाब के गुरदासपुर जिले में डेरा बाबा नानक गुरुद्वारे से करीब चार किलोमीटर दूर है। इस साल 12 नवंबर को गुरु नानक की 550वीं जयंती के जश्न के हिस्से के रूप में इसे खोला गया है। पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने कहा कि मुस्लिम "भारत में पहले ही काफी दबाव में है और भारतीय अदालत का यह फैसला उन पर और दबाव बढ़ाएगा।"

पाक ने पीछे लिया कदम, 1 साल तक करतारपुर श्रद्धालुओं के लिए पासपोर्ट की शर्त हटाई

कुरैशी ने कहा कि पाकिस्तान फैसले को विस्तार से पढऩे के बाद इस पर अपनी प्रतिक्रिया देगा। इस बीच, पाकिस्तान के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री फवाद हुसैन (Fawad Chaudhry) ने फैसले को "शर्मनाक, बेहुदा, अवैध और अनैतिक" करार दिया। सरकारी पाकिस्तानी रेडियो की एक खबर के अनुसार सूचना और प्रसारण मामलों में प्रधानमंत्री की विशेष सहायक फिरदौस एवान ने फैसले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि भारतीय शीर्ष अदालत ने बता दिया कि वह स्वतंत्र नहीं है। उन्होंने कहा कि एक ओर जहां करतारपुर गलियारा खोल पाकिस्तान अल्पसंख्यकों के अधिकार सुनिश्चित कर रहा है वहीं दूसरी ओर भारत मुसलमानां सहित अल्पसंख्यकों पर जुल्म कर रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.