Wednesday, Dec 02, 2020

Live Updates: Unlock 7- Day 2

Last Updated: Wed Dec 02 2020 10:00 PM

corona virus

Total Cases

9,523,678

Recovered

8,958,524

Deaths

138,467

  • INDIA9,523,678
  • MAHARASTRA1,828,826
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA884,897
  • TAMIL NADU781,915
  • KERALA602,983
  • NEW DELHI578,324
  • UTTAR PRADESH545,545
  • WEST BENGAL526,780
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • ODISHA318,725
  • TELANGANA269,816
  • RAJASTHAN268,063
  • CHHATTISGARH237,322
  • BIHAR235,616
  • HARYANA234,126
  • ASSAM212,776
  • GUJARAT209,780
  • MADHYA PRADESH206,128
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB152,091
  • JAMMU & KASHMIR110,224
  • JHARKHAND109,151
  • UTTARAKHAND74,340
  • GOA45,389
  • HIMACHAL PRADESH40,518
  • PUDUCHERRY36,000
  • TRIPURA32,723
  • MANIPUR23,018
  • MEGHALAYA11,810
  • NAGALAND11,186
  • LADAKH8,415
  • SIKKIM4,990
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,710
  • MIZORAM3,825
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,327
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
ayodhya ram temple will be used copper leaves engineers are investigating soil prshnt

राम मंदिर: इंजिनियर कर रहे मिट्टी की जांच, तांबे की पत्तियों का ऐसे होगा निर्माण में इस्तेमाल

  • Updated on 8/21/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। अयोध्या (Ayodhya) राम मन्दिर (Ram Mamdir) निर्माण को लेकर श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट (Shri Ram Janmabhoomi Teerth Kshetra) ने बताया है कि मंदिर में लगने वाले पत्थरों को जोड़ने के लिए तांबे की पत्तियों का उपयोग किया जाएगा।

मंदिर निर्माण के लिए 18इंच लम्बी, 3mm गहरी,30 mm चौड़ी 10,000 पत्तियों की आवश्यकता होगी। जिसके लिए ट्रस्ट ने श्रीरामभक्तों से आह्वान किया है कि वे तांबे की पत्तियां दान करें। साथ ही श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ने बैंक खातों की जानकारी और दान करने की प्रक्रिया के जानकारी को भी साझा किया है।

श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट ने बताया कि इंजीनियर अब मंदिर स्थल पर मिट्टी का परीक्षण कर रहे हैं। बताया जा रहा है कि मंदिर के निर्माण में लोहे का उपयोग नहीं किया जाएगा।

दानकर्ता तांबे की पत्तियों पर लिखवा सकते हैं परिवार का नाम
इन तांबे की 10,000 पत्तियों पर दानकर्ता अपने परिवार, क्षेत्र अथवा मंदिरों का नाम गुदवा सकते हैं। इस प्रकार से ये तांबे की पत्तियां न केवल देश की एकात्मता का अभूतपूर्व उदाहरण बनेंगी, अपितु मन्दिर निर्माण में सम्पूर्ण राष्ट्र के योगदान का प्रमाण भी देंगी।

सुशांत केस: मामले की जांच करेगी CBI की ये SIT टीम, 4 वरिष्ठ अधिकारी किए गए शामिल

इंजीनियर कर रहे है मंदिर स्थल के मिट्टी की जांच
बताया जा रहा है कि मन्दिर निर्माण में लगने वाले पत्थरों को जोड़ने के लिए तांबे की पत्तियों का उपयोग किया जाएगा। निर्माण कार्य हेतु 18 इंच लम्बी, 3 mm गहरी और 30 mm चौड़ी 10,000 पत्तियों की जरूरत है जिसे भक्तों से दान देने के लिए कहा गया है। मदिर निर्माण में CBRI रुड़की, IIT मद्रास के साथ L & T के इंजीनियर मंदिर स्थल पर मिट्टी का परीक्षण कर रहे हैं। 36-40 महिने में मंदिर निर्माण कार्य के समाप्त होने की उम्मीद है।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.