Sunday, Mar 07, 2021
-->
ayodhya saints rage on nepali pm oli''''s statement on lord ram continue prshnt

भगवान राम पर नेपाली PM ओली के बयान पर भड़के अयोध्या के संत, धर्मादेश किया जारी

  • Updated on 7/14/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। अयोध्या और भगवान राम को लेकर नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली  के बयान को लेकर अयोध्या के संत भड़के हुए हैं। रामधन ट्रस्ट के अध्यक्ष रामदास महाराज ने कहा है कि नेपाल में उनके शिष्य ओली के खिलाफ आज से प्रदर्शन करने के लिए सड़कों पर उतरेंगे। रामदास महाराज ने पुराण और वेद में वर्णन का जिक्र करते हुए कहा कि नेपाल में सरयू है ही नहीं।ra

विशाखापत्तनमः फार्मा कंपनी में लगी भीषण आग, फायर ब्रिगेड मौके पर, एक घायल

रामदास महाराज के शिष्य नेपाल में करेंगे प्रदर्शन
अध्यक्ष रामदास महाराज ने कहा कि नेपाल में मेरे लाखों की संख्या में मौजूद शिष्य कल से सभी भक्त सड़क पर उतर कर विरोध करेंगे, उन्होंने कहा कि ओली को एक महीने के अंदर कुर्सी से उतरना पड़ेगा। रामदास महाराज ने कहा कि यह धर्म आदेश में जारी करता हूं मेरे शिष्य सड़क पर उतरकर प्रदर्शन करें और ओली को सत्ता से बाहर करें।

रामदास महाराज ने अयोध्या को लेकर कहा कि पूरे विश्व की सांस्कृतिक राजधानी अयोध्या है उन्होंने कहा कि वेद रामायण पुराण में देख लीजिए उसमें साफ लिखा है कि जहां सरयू है वहां अयोध्या है उन्होंने कहा कि नेपाल में तो सरयू है ही नहीं। पूरे भूखंड में राजा होते थे और सबका चक्रवर्ती सम्राट भारत के उत्तर प्रदेश के अयोध्या के महाराज होते थे।

असम में बारिश-बाढ़ से 23 जिले प्रभावित, NDRF की टीम राहत कार्यों में जुटी

धर्मगुरु महंत परमहंस का बयान
अयोध्या को लेकर केपी शर्मा के बयान पर धर्मगुरु महंत परमहंस ने कहा कि केपी शर्मा खुद नेपाल के नहीं है उन्होंने कहा कि केपी शर्मा पूरे नेपाल को पाकिस्तान की तरह भिखारी बनाने पर तुले हुए हैं और नेपाल की जनता को धोखा दे रहे हैं। धर्म गुरु परमहंस ने कहा कि नेपाल के दो दर्जन से अधिक गांव पर चीन ने कब्जा कर रखा है, उसी को छुपाने के लिए केपी शर्मा भगवान राम के नाम का सहारा ले रहे हैं।

नेपाल के पीएम ने भगवान राम को बताया नेपाली, कहा- भारत ने बनाई नकली अयोध्या

ओली का भगवान श्री राम को लेकर बेतूका दावा
बता दें कि नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली का दावा है कि भगवान श्री राम की नगरी अयोध्या भारत के उत्तर प्रदेश में नहीं बल्कि नेपाल के बाल्मीकि आश्रम के पास है। दरअसल बाल्मीकि रामायण का नेपाली अनुवाद करने वाले नेपाल के आदिकवि भागवत भक्तों की जन्म जयंती के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में केपी शर्मा ओली ने यह दावा किया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.