Monday, Mar 30, 2020
Ayushman Bharat, more treatment on serious diseases

जानें आयुष्मान भारत से लोगों को कितना हुआ लाभ

  • Updated on 10/15/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण (National Health Service) के आकड़ो के मुताबिक देश में आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (Ayushman Bharat Prime Minister Jan Arogya Yojana)  का लाभ उठाने वालों की संख्या 50 लाख को पार कर गई है। आकड़े बताते है 60 प्रतिशत से अधिक राशि तृतीय श्रेणी के इलाज पर खर्च की गई, और इसमें जिन बीमारियों का इलाज हुआ, वे कार्डियोलॉजी, आर्थोपैडिक, रेडिएशन, ओंकोलॉजी, कार्डियो-थोरैसिक, वैस्कुलर सर्जरी और यूरोलॉजी से संबंधित थीं।

योगी ने किया साफ- MBBS करने वाले डॉक्टर को 2 साल गांवों में करना होगा काम 

योजना के तहत 7,901 करोड़ रुपये खर्च हुए
बताया जा रहा है कि इस योजना के तहत देश में हर मिनट में नौ लोग अस्पताल में भर्ती हुए, और इस स्वास्थ्य योजना के तहत 32 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के लोगों के इलाज में 7,901 करोड़ रुपये खर्च हुए। 

स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन का कहना है कि आज तक पूरे भारत में 18,486 अस्पतालों को योजना के तहत सूचीबद्ध किया गया है। इनमें से 53 फीसद अस्पताल निजी और मल्टी स्पेशिलियटी वाले हैं। 50,000 से अधिक पोर्टेबिलिटी के भी मामले सामने आए हैं, जिसमें प्रवासी और यात्रा करने वाले पात्र लोगों ने अपने गृह राज्यों के बाहर अपना इलाज कराया है। रिपोर्ट के अनुसार इस योजना के तहत गुजरात तमिलनाडु, छत्तिसगढ़, केरल और आंध्र प्रदेश ने सबसे अच्छा प्रदर्शन किया है।

केजरीवाल के अहंकार के कारण 'आयुष्मान भारत' के लाभ से वंचित हैं दिल्ली वासी- BJP

1000 नए अस्पताल खोलेगी सरकार
केंद्र सरकार ने छोटे और मझले शहरों में अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस निजी अस्पतालों को बढ़ावा देने की बात कही है। इसके लिए उन्‍होंने नीति आयोग से पॉलिसी बनाने के निर्देश जारी किए हैं। बताया जा रहा है कि सरकार की कोशिश छोटे और मझले शहरों में 100 बिस्तरों वाले 1000 नए अस्पताल खोलने की है।


 

comments

.
.
.
.
.