Monday, Nov 28, 2022
-->
ayushman-yojana-facilities-in-kgmu-of-lucknow-woman-suffers-a-lot-to-admit-his-husband

आयुष्मान योजना: सरकार की कोशिशों को ठेंगा दिखाती व्यवस्था, कंधे पर पति को लेकर भटकी महिला

  • Updated on 12/27/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। मोदी सरकार द्वारा शुरू की गई आयुष्मान योजना का आलम इतना बुरा है कि इसका लाभ पाने के लिए मरीजों को कई दिनों तक चक्कर काटने पड़ रहे है। दरअसल बुधवार को एत महिला अपने बीमार पति को कंधे पर लेकर टक्कर काटती रही। महिला ने पीआरओ से लेकर ट्रॉमा सेंटर तक के चक्कर काटे लेकिन इसके बाद भी उसके पति को भर्ती किया गया। 

वहीं जब इस बारे में सीएमएस से पूछताछ की गई तो उन्होंने कहा कि दस्तावेज ठीक करने के बाद मरीज को तुरंत भर्ती कर लिया जाएगा। सुल्तानपुर के धनहुआ निवासी 42 वर्षीय पन्ना लाल को दो हफ्ते से सांस फूलने की शिकायत थी। उनके पड़ोसी ने उन्हें आयुष्मान योजना की जानकारी दें मुफ्त में इलाज करने की सलाह दी।  जिसके बाद पन्ना लाल की पत्नी मीरा उन्हें लेकर मंगलवार को ट्रामा सेंटर पहुंची। यहा उन्हें बोला गया कि वो न्यू ओपीडी जाए।

हिमाचल में बीजेपी सरकार का एक साल पूरा, पीएम मोदी आज करेंगे जनसभा को संबोधित

जब तक वो वहां पहुंची तब तक वहां पर्चा भरना बंद हो गया था। इसके बाद उन्होंने अपने पति को कंधों पर लिया और ट्रामा सेंटर पहुंची। यहा बने कैजुअल्टी वार्ड में पहुंचते ही पति की सांसें तेज हो गईं। मीरा अपने पति की हालत देख घबरा गई और जोर-जोर से रोने लगी। कैजुअल्टी में उसे इलाज तो दिया गया, लेकिन कुछ देर बाद तबीयत थोड़ी सुधरी, पर वार्ड में जगह न होने का हवाला देते हुए मरीज को घर ले जाने की सलाह दी गई।

राजस्थान मंत्रिमंडल में विभागों का बंटवारा, CM गहलोत को 9 तो पायलट को मिले 5 विभाग

मीरा अपने पति को लेकर बाहर बने रेन बसेरे में रही। बुधवार सुबह मरीज की हालत और खराब हो गई। इसके बाद वो अपने पति को लेकर ओपीडी पहुंची जहां उन्होंने आयुष्मान योजना का कार्ड दिखाकर अपने पति को भर्ती करने की गुहार लगाई। जिस पर उसे पीआरओ ऑफिस भेज दिया गया। वहां जाकर उनसे कहा गया कि अभी ऑनलाइन उसका नाम नहीं आया है। इस वजह से उनका इलाज नहीं किया जाएगा। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.