Wednesday, Oct 20, 2021
-->
baba ka dhaba restaurant closed after losses delhi kmbsnt

घाटे के बाद बंद हुआ ''बाबा का ढाबा'' रेस्टोरेंट, 1 लाख के इंवेस्टमेंट में कमाए केवल 35 हजार

  • Updated on 6/9/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पिछले साल लॉकडाउन के दौरान जब कई लोगों की आर्थिक स्थिति बुरी तहर से प्रभावित हुई थी, उस दौरान सुर्खियों में आए 'बाबा का ढाबा' रेस्टोरेंट नुकासन के बाद अब बंद हो गया है। सोशल मीडिया पर एक छोटी सी खाने की दुकान (बाबा का ढाबा) चलाने वाले कांता प्रसाद को इतना लाभ हुआ कि उन्होंने अपना रेस्टोरेंट खोल दिया।

दरअसल, एक युवक ने जब बुजुर्ग दंपत्ति को कोरोना काल में मेहनत करते और दुकान पर ग्राहकों के इंतजार में देखा तो उसने सोशल मीडिया में इनके ढाबे का प्रचार किया। इसके बाद इनके ढाबे में खाने वालों की लाइन लग गई। इससे इनको इतना मुनाफा हुआ कि पिछले साल दिसंबर में इन्होंने अपना एक रेस्टोरेंट खोल लिया।

AAP ने राज्यपाल को पत्र लिखकर की बिकरू कांड में निर्दोष महिलाओं को जेल से रिहा करवाने की मांग 

एक साल में हुआ इतना घाटा 
अभी एक साल भी पूरा नहीं हुआ और कांता प्रसाद को अपना रेस्टोरेंट बंद करना पड़ा। इनका कहना है कि इन्होंने ढाबे में एक लाख रुपये निवेश किए थे, लेकिन उससे केवल 35 हजार रुपये की ही कमाई हो सकी। इस वजह से उन्हें रेस्टोरेंट बंद करना पड़ा। कांता प्रसाद का कहना है कि अब मैं अपने पुराने ढाबे को चलाकर ही खुश हूं। जब तक जिंदा रहूंगा तब तक यही ढाबा चलाऊंगा। 

केंद्र सरकार से मंजूरी न मिलने पर केजरीवाल ने कहा- योजना में बदलाव को तैयार

अपने लिए बचा कर रकें है डोनेशन के पैसे 
सोशल मीडिया में मशहूर होने के बाद कई बड़ी हस्तियां कांता प्रसाद की मदद के लिए आगे आईं। कई लोगों ने उन्हें लाखों का डोनेशन दिया। प्रसाद का कहना है कि उन्होंने डोनेशन में मिले पैसे में से 20 लाख रुपये अपने और अपनी पत्नी के लिए बचा कर रखें। बता दें कि दक्षिणी दिल्ली के मालवीय नगर में कांता प्रसाद ने अपना रेस्टोरेंट खोला था, जिसे घाटे के बाद बंद कर दिया गया है। 

comments

.
.
.
.
.