Wednesday, Jun 16, 2021
-->
baba-ramdev-patanjali-challenges-the-decision-of-the-lenders-of-ruchi-soya-in-nclt

पतंजलि ने रुचि सोया के कर्जदाताओं के फैसले को NCLT में दी चुनौती

  • Updated on 8/24/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। बाबा रामदेव की अगुवाई वाली पतंजलि आयुर्वेद ने रुचि सोया के कर्जदाताओं के फैसले को राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) में चुनौती दी है। रुचि सोया के कर्जदाताओं ने अडाणी विल्मर की कंपनी के अधिग्रहण की 6,000 करोड़ रुपये की पेशकश को स्वीकार कर लिया है। 

आशुतोष, आशीष खेतान बहुत पहले ही गंवा चुके थे केजरीवाल का भरोसा?

सूत्रों ने बताया कि एनसीएलटी की मुंबई पीठ में इस मामले पर 27 अगस्त को सुनवाई हो सकती है। इस बारे में संपर्क करने पर पतंजलि के प्रवक्ता एस के तिजारावाला ने कोई टिप्पणी करने से इनकार करते हुए कहा कि यह मामला अदालत में लंबित है। अडाणी समूह के प्रवक्ता ने भी टिप्पणी से इनकार किया।       

लालू, राबड़ी, तेजस्वी के खिलाफ ED ने दायर की चार्जशीट, सियासत तेज

दिवाला हो चुकी रुचि सोया की कर्जदाताओं की समिति (सीओसी) ने कल अडाणी विल्मर की बोली को मंजूरी दे दी थी। अडाणी विल्मर की बोली के पक्ष में 96 फीसदी वोट पड़े थे। बैंकों द्वारा किसी बोली को स्वीकार करने के बाद निपटान पेशेवरों को एनसीएलटी की मंजूरी लेनी होती है। रुचि सोया के अधिग्रहण के लिए अडाणी विल्मर और पतंजलि के बीच काफी समय से होड़ लगी है।

राहुल गांधी ने विदेश में BJP, RSS पर जमकर कर रहे हैं तीखे हमले

रुचि सोया के लिए अडाणी विल्मर ने 6,000 करोड़ रुपये की सबसे ऊंची बोली लगाई थी, वहीं पतंजलि समूह ने 5,700 करोड़ रुपये की बोली लगाई थी। पतंजलि आयुर्वेद ने इससे पहले रुचि सोया के निपटान पेशेवर से बोली प्रक्रिया में अडाणी ग्रुप की पात्रता पर स्पष्टीकरण मांगा था। उसने यह पूछा था कि किस मानदंड के आधार पर निपटान पेशेवर ने अडाणी विल्मर को सबसे ऊंची बोली लगाने वाला घोषित किया है। 

सिसोदिया बोले- दिल्ली में है प्रशासन का बेहद खराब मॉडल, गिनाई खामियां

पातंजलि ने कानूनी सेवा फर्म साइरिल अमरचंद मंगलदास को आरपी का कानूनी सलाहकार नियुक्त किए जाने पर भी सवाल उठाया था, क्योंकि यह विधि सेवा कंपनी अडाणी समूह को पहले से ही सलाह दे रही थी।

चिदंबरम से एयरसेल-मैक्सिस मामले में ईडी ने फिर पूछे कड़े सवाल

दरअसल, कर्जदाताओं के समूह ने रुचि सोय के लिए 2 दौर की बोली प्रक्रिया के बाद सीओसी ने अडाणी विल्मर की बोली को स्वीकार कर लिया है। रुचि सोया पर कुल 12,000 करोड़ रुपये का कर्ज है। कंपनी के खास ब्रांडों में न्यूट्रिला, महाकोश, सनरिच, रुचि स्टार और रुचि गोल्ड शामिल हैं।

नेताओं का रिपोर्ट कार्ड बताने वाले 'नेता एप' की केजरीवाल ने भी की तारीफ

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.