Thursday, Dec 09, 2021
-->
baba ramdev patanjli challenged, said no one father can arrest him rkdsnt

बाबा रामदेव ने दी चुनौती, बोले- किसी का बाप भी मुझे गिरफ्तार नहीं करा सकता

  • Updated on 5/26/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। ऐलोपैथी चिकित्सा और डॉक्टरों की मौत पर सवाल उठाने वाले योगगुरु रामदेव ने तेवर शांत होने का नाम नहीं ले रहे हैं। सोशल मीडिया पर उनकी गिरफ्तारी को लेकर हो रही चर्चा उन्हें बेचैन कर दिया है। मीडिया से बात करते हुए उन्होंने साफ कहा है कि किसी का बाप भी रामदेव को गिरफ्तार नहीं करा सकता है। बता दें कि सोशल मीडिया पर 'अरेस्ट बाबा रामदेव' ट्रेंड कर रहा था, इसको लेकर ही रामदेव ने यह कड़ी टिप्पणी की है। 

CBI के नए डायरेक्टर होंगे IPS अधिकारी सुबोध कुमार जायसवाल

 

टूलकिट मामले पर दिल्ली पुलिस ने Twitter India के ऑफिस की ली तलाशी

बाबा रामदेव की इस टिप्पणी के बाद कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्ण्म ने सरकार पर कटाक्ष करते हुए ट्वीट किया है। वह लिखते हैं, 'सरकार की इतनी दुर्गति, धिक्कार है. @pmo' बता दें कि बाबा रामदेव ने इससे पहले डॉक्टरों और उनकी डिग्री पर सवाल उठाने शुरू कर दिए थे। उनका वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ। इसके बाद लोगों ने बाबा के खिलाफ कार्रवाई की मांग शुरू कर दी। 

भाजपा ने विरोधियों पर निशाना साधने के लिए टूलकिट का इस्तेमाल किया: राउत 

बता दें कि इंडियन मेडिकल एसोसिएशन और विपक्षी दलों ने बाबा के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की थी। इसके बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने हस्तक्षेप कर रामदेव को पत्र लिख अपना बयान वापस लेने की सलाह दी। रामदेव ने भी सोशल मीडिया पर अपना बयान वापस ले लिया और डॉक्टर हर्षवर्धन को पत्र भी लिखा और सफाई भी दी। खास बात यह है कि इस पत्र में उन्होंने आहत लोगों से माफी नहीं मांगी।

कोरोना संकट में निलंबित हुए IPL 2021 को शुरू करने की तैयारी

इसके बाद रामदेव का वीडियो सोशल मीडिया में आया, जिसमें वह डॉक्टरों पर निशाना साधते नजर आए। स्वास्थ्य मंत्री की चेतावनी का उन पर कोई असर नहीं हुआ है। रामदेव वीडियो में 1000 डॉक्टरों की मौत का मजाक उड़ाते दिख रहे हैं। साथ  ही Vaccination पर भी सवाल खड़े कर रहे हैं। हैरान की बात यह है कि वह खुद को बिना डिग्री वाला डॉक्टर करार दे रहे हैं। इतना ही नहीं, उनके शिविर में योग करने वाले भी नजर आ रहे हैं। 

सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन की CJI से अपील- अवकाशकालीन पीठ बढ़ाए जाएं

गौरतलब है कि रामदेव मामले में हर्षवर्धन ने कहा था कि रामदेव अपना आपत्तिजनक बयान वापस लें। डॉक्टर हर्षवर्धन ने रामदेव को लिखी गई दो पेज की चिट्ठी में स्पष्ट तौर पर कहा, ' संपूर्ण देशवासियों के लिए कोरोना विरुद्ध युद्धरत डॉक्टर और अन्य स्वास्थ्यकर्मी देवतुल्य हैं। ऐसे में बाबा रामदेव जी के बयान ने कोरोना योद्धाओं का निरादर कर देशभर की भावनाओं को ठेस पहुंचाई है।'

सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन की CJI से अपील- अवकाशकालीन पीठ बढ़ाए जाएं

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.