Sunday, Dec 04, 2022
-->
baba ramdev sri sri ravi shankar rescue of agneepath scheme gave advice to youth

अग्निपथ योजना के बचाव में उतरे बाबा रामदेव और श्री श्री रविशंकर, युवाओं को दी नसीहत

  • Updated on 6/20/2022


नई दिल्ली/टीम डिजिटल। अग्निपथ योजना के बचाव में योग गुरू बाबा रामदेव और आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर भी उतर आए हैं। दोनों ने अग्निपथ योजना की सराहना करते हुए युवाओं को हिंसा से दूर रहने की सलाह दी है। 

अग्निपथ के आवेदकों को प्रदर्शन, आगजनी में शामिल नहीं होने के संबंध में देना होगा शपथ पत्र 

आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर ने अपने ट्वीट में लिखा है, 'देश की रक्षा के लिए समर्पित और त्याग के मनोभाव से निकले हुए युवाओ के लिए यह एक सुअवसर है। बहकावे में न आये, इसे ठीक ठीक समझे और मिलने वाली सुविधाओं और प्रक्षिशण से स्व तथा राष्ट्र का हित करे! दुनिया भर में, यहाँ तक की स्विट्ज़रलैंड व सिंगापुर जैसे छोटे देशो में भी, एक से दो वर्ष सेना में सर्विस देना अनिवार्य है। इनकी तुलना में भारत की नयी सैन्य सेवा योजना अति उत्तम है।' 

CM मान ने पंजाब यूनिवर्सिटी को लेकर अमित शाह को लिखा पत्र, जताई आपत्ति

सेना में भर्ती के लिये केंद्र सरकार की अग्निपथ योजना का विरोध करने वाले छात्रों से योग गुरू स्वामी रामदेव ने अपील की है कि अगर उन्हें विरोध करना ही है तो वह अहिंसक तरीके से करें क्योंकि विरोध में हिंसा और आगजनी करना गलत है। रामदेव ने कहा कि हिंसा और आगजनी करके विरोध करना गलत है। उन्होंने कहा की अगर विरोध करना ही है तो यह अहिंसक होना चाहिए क्योंकि आगजनी और हिंसा करने से देश और राष्ट्रीय संपत्ति का नुकसान होता है । 

अब हमें भाजपा के ‘मैं भी चौकीदार’ आंदोलन का मतलब समझ आया : कांग्रेस

योग गुरू ने जोर देकर कहा कि युवा अग्निपथ के विरोध में ‘अग्निपथ’ पर नहीं बल्कि ‘योग पथ’ पर चलें। उन्होंने कहा की सरकार जरुरत के अनुसार योजना मे जरुरी बदलाव कर रही है और युवा अपना हौसला बनाये रखें और अहिंसक तरीके से विरोध करें। उन्होंने कहा की जो युवा सेना में रहकर देश की सेवा करना चाहते हैं वह आगजनी से देश को फूंक कर देश की सेवा नहीं कर सकते। 

विरोध के बावजूद अग्निपथ योजना वापस नहीं होगी, सेना ने व्यापक भर्ती कार्यक्रम का किया ऐलान

उन्होंने कहा की सेना में सेवा चाहे एक साल या चार साल की मिले, जैसा भी सरकार निर्धारित करे उसी को मानें। उन्होंने कहा की योजना को लेकर बुद्धिजीवियों की राय आ चुकी है, सबके स्वर सत्ता के कानों तक पंहुच चुके हैं और कुछ न कुछ समाधान जरूर निकलेगा, इसलिए युवा धीरज बनाये रखें और शांति बनाये रखने में युवा अपना योगदान दें।

‘अग्निपथ’ योजना ने निराश किया, केंद्र अपने फैसले पर पुनर्विचार करे: मायावती

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.