Tuesday, Dec 07, 2021
-->

बाबरी केस में CBI कोर्ट का आदेश, आडवाणी-जोशी और उमा 30 मई से पहले हो पेश

  • Updated on 5/25/2017

Navodayatimes

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। बाबरी विध्‍वंस मामले में गुरुवार को सीबीआई के स्‍पेशल कोर्ट ने बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी और केंद्रीय मंत्री उमा भारती,विनय कटियार, साध्वी ऋतंभरा एवं विष्णु हरि डालमिया को 30 मई से पहले कोर्ट में उपस्थित होने का आदेश दिया है। 

Afternoon Bulletin: सिर्फ एक क्लिक में पढ़ें, अभी तक की बड़ी खबरें

इससे पहले इस मामले में कोर्ट में पूर्व सांसद राम विलास वेदांती, महंत नृत्य गोपाल दास, विहिप के चंपत राय, धर्मदास समेत पांच लोगों ने आत्मसमर्पण कर किया था। जिन्हें 20-20 हजार रुपये के निजी मुचलके पर जमानत दे दी गई थी। 

इन सभी नेताओं पर 1992 में अयोध्या में बाबरी मस्जिद को गिराने के षड्यंत्र में शामिल होने के आरोप है। सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई कोर्ट से इस मामले में आरोपियों के खिलाफ षड्यंत्र के आरोप भी जोड़ने के आदेश दिए थे।

मुंबई-कोटा विश्व के सबसे घनी आबादी वाले शहरों के टॉप-10 में शामिल

अयोध्या में 6 दिसंबर, 1992 को बाबरी मस्जिद ढहाये जाने के बाद दो FIR दर्ज की गई थीं। सीबीआई ने जांच के बाद 49 लोगों के खिलाफ चार्जशीट तैयार किए थे, लेकिन 13 आरोपी मुकदमा शुरू होने से पहले ही बरी हो गए। वहीं इस मामले में आरोपी रहे अशोक सिंघल और गिरिराज किशोर का पहले ही निधन हो चुका है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.