Saturday, Mar 23, 2019

फाल्गुन माह की हुई शुरुआत, इस महाउपाय को करने से बरकरार रहेंगी खुशियां

  • Updated on 2/20/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। फाल्गुन चैत्र माह से प्रारंभ होने वाले हिंदू पंचांग का आखिरी महीनो होता है। ये फरवरी या मार्च के महीने में पड़ता है, जिसे अमूमन बसंत का महीना भी कहा जाता है। इस महीने में हिंदू धर्म के दो बड़े त्यौहार भी पड़ते हैं- शिवरात्रि और होली।

इस महीने में एक ओर भगवान शिव की पूजा की जाती है तो दूसरी तरफ भगवान द्वारा अपने भक्त प्रह्लाद की रक्षा करने के कारण होलिका दहन के साथ होली मनाई जाती है। 

पांचवे प्रमुख स्नान पर्व पर 1 करोड़ से ज्यादा श्रद्धालुओं ने लगाई संगम में डुबकी

ऐसी मान्यता है कि चंद्रमा की उत्पति भी महर्षि अत्रि और उनकी पत्नी अुसूया की संतान के रुप में फाल्गुन महीने की पूर्णिमा को ही हुई थी। इसलिए इस महीने में समारोह पूर्वक चंद्रोदय की पूजा भी की जाती है।

माघ पूर्णिमा 2019: पूरा होगा प्रयाग के तट पर कल्पवास, मिलेगा भगवान विष्णु का आशीर्वाद

यह माह हिंदू वर्ष का अंतिम महीना होता है इसलिए सबसे ज्यादा धार्मिक त्यौहार इसी महीने में होते हैं। ज्योतिष के अनुसार यदि फाल्गुन द्वादशी युक्त श्रवण नक्षत्र से प्रारंभ हो तो इस दिन भगवान विष्णु का उपवास करने की मान्यता भी है।

इस माह के प्रमुख व्रत

  • फाल्गुन शुक्ल अष्टमी- इस दिन देवी लक्ष्मी और सीता स्वरुप की पूजा की जाती है।
  • फाल्गुन कृष्ण चतुर्थी- इसी दिन शिव जी को समर्पित शिवरात्रि मनाई जाती है।
  • फाल्गुन पूर्णिमा- चंद्रमा की उत्पति का दिन होने के कारण उसकी उपासना होती है।
  • होली- हिंदू पंचांग के अनुसार ये पर्व फाल्गुन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है।

करे यें महाउपाय
फाल्गुन के महीने में सूर्य उदय होने से पहले उठे और अपने स्नान के जल में एक चम्मच गुलाबजल मिलाकर स्नान करें। आप भोजपत्र को अपने पूजन स्थल में रखकर एक दीया जलायें और गायत्री मंत्र का 3 माला जाप करें। ये महाउपाय आपके जीवन में सदैव खुशियां बरकरार रखेंगे।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.