Tuesday, Nov 30, 2021
-->
bengal-govt-pegasus-probe-commission-continues-no-mention-in-sc-order-committee-member-rkdsnt

प. बंगाल पेगासस जांच आयोग का कामकाज जारी, SC के आदेश में इसका जिक्र नहीं: समिति सदस्य

  • Updated on 10/28/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पेगासस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल कर पश्चिम बंगाल के कई लोगों की कथित फोन टैपिंग किये जाने की जांच के लिए राज्य की ममता बनर्जी सरकार द्वारा गठित दो सदस्यीय जांच आयोग सामान्य रूप से कामकाज कर रहा है क्योंकि उच्चतम न्यायालय ने बुधवार को अपने आदेश में आयोग पर कुछ नहीं कहा है। आयोग के सदस्य जस्टिस (सेवानिवृत्त) ज्योतिर्मय भट्टाचार्य ने यह बताया। 

नोटबंदी में फली-फूली Paytm लाएगी IPO, विजय शर्मा बोले- यह भारत का युग

उल्लेखनीय है कि शीर्ष अदालत ने भारत में कई खास लोगों की जासूसी के लिए इजराइली सॉफ्टवेयर पेगासस के कथित इस्तेमाल की जांच के लिए बुधवार को साइबर विशेषज्ञों की तीन सदस्यीय एक समिति नियुक्त की थी। जस्टिस (सेवानिवृत्त) भट्टाचार्य ने बृहस्पतिवार को कहा, ‘‘चूंकि उच्चतम न्यायालय के बुधवार के आदेश में हमारा (दो सदस्यीय आयोग का) कोई जिक्र नहीं किया गया, इसलिए हमारी गतिविधियों पर रोक लगाने का कोई आदेश नहीं है। ’’ 

कांग्रेस के खिलाफ चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर के बयान से भाजपा उत्साहित

कलकत्ता उच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायाधीश ने कहा कि आयोग अपने अधिकार क्षेत्र के मुताबिक सामान्य रूप से कामकाज कर रहा है। जुलाई में गठित किये गये आयोग के अन्य सदस्य उच्चतम न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश (सेवानिवृत्त) मदन बी लोकुर हैं। खबरों के मुताबिक, राज्य में इस साल की शुरूआत में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान पेगासस के संभावित लक्ष्यों में तृणमूल कांग्रेस सांसद अभिषेक बनर्जी और चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर तथा अन्य शामिल थे।

पेगासस जांच की निगरानी पर जस्टिस रवींद्रन बोले- सुप्रीम कोर्ट के संदेश का इंतजार

 


 

comments

.
.
.
.
.