bengal-refuses-to-adopt-nutrition-campaign-smriti-irani

बंगाल ने पोषण अभियान अपनाने से इंकार कर दिया : स्मृति ईरानी 

  • Updated on 7/17/2019

 

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी (smriti Irani) ने बुधवार को राज्यसभा में कहा कि पश्श्चिम बंगाल (west bengal) सरकार ने केंद्र सरकार के पोषण अभियान को अपनाने से इंकार कर दिया है। उन्होंने राज्य सरकार से अनुरोध किया कि केंद्र से राजनीति मतभेद के बावजूद वह इस महत्वपूर्ण योजना को अपनाए।  
कुलभूषण मामला पर हरीश साल्वे ने कहा, Pak की इंटरनेशनल कोर्ट में हुई किरकिरी

स्मृति ईरानी ने उच्च सदन में जद (यू) (JDU) सदस्य कहकशां परवीन, सपा की जया बच्चन और अन्नाद्रमुक की विजिला सत्यानाथ के एक ध्यानाकर्षण प्रस्ताव पर हुई चर्चा के जवाब में यह टिप्पणी की। यह ध्यानाकर्षण प्रस्ताव पोषण अभियान के संदर्भ में, महिलाओं और बच्चों में कुपोषण से संबंधित मामलों से जुड़ा था। उन्होंने कहा कि केंद्र ने पश्चिम बंगाल को स्मार्ट फोनों के लिए राशि दी और उन्हें अन्य उपकरण देने को भी तैयार है। लेकिन अब तक कोई राशि खर्च नहीं की गयी।  

कुलभूषण मामला पर हरीश साल्वे ने कहा, Pak की इंटरनेशनल कोर्ट में हुई किरकिरी

स्मृति ईरानी ने कहा कि देश में महिलाओं, बच्चों और किशोरियों में कुपोषण की स्थिति स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा समय समय पर आयोजित सर्वेक्षण के तहत कवर किया जाता है। उन्होंने कहा कि कुपोषण की समस्या पर काबू के लिए उनका मंत्रालय कई योजनाओं का कार्यान्वयन कर रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार ने 2017-18 में तीन साल की अवधि के लिए 9046 करोड़ रूपए के बजट के साथ पोषण अभियान की शुरूआत की। इसमें सभी 36 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को शामिल किया गया है।    
कर्नाटक संकट पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला खटक रहा है कांग्रेस को

इस अभियान का लक्ष्य देश में चरणबद्ध तरीके से कुपोषण को कम करना है।  स्मृति ईरानी ने कहा कि पोषण पर काबू के लिए किए गए ठोस प्रयासों के परिणामस्वरूप देश में कुपोषण के स्तर में कमी आयी है।  कहकशां परवीन ने चर्चा में भाग लेते हुए कहा कि कुपोषण का मूल कारण गरीबी और शिक्षा है। उन्होंने कहा कि गरीब दहेज के कारण अपनी बच्चियों की शादी कम उम्र में ही कर देते हैं। इससे कुपोषण को बढ़ावा मिलता है।  जया बच्चन (jaya bachchan) ने कहा कि कुपोषण की समस्या गरीबों और ग्रामीण क्षेत्रों में ज्यादा है। उन्होंने परिवार में बेटी-बेटे के बीच भेद हो 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.