Friday, Jul 23, 2021
-->
bhim army chief chandra shekhar meets protesting farmers at singhu border kmbsnt

किसानों को समर्थन देने सिंघू बॉर्डर पहुंचे भीम आर्मी चीफ, मोदी सरकार को कहा तानाशाह

  • Updated on 12/3/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों के आंदोलन (Farmers Protest) का आज 8वां दिन है। एक ओर जहां केंद्र सरकार से किसान समूहों के प्रतिनिधियों की बातचीत जारी है वहीं दूसरी ओर सिंघू बॉर्डर पर भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर (Chandra Shekhar) किसानों का हौंसला बढ़ाने वहां पहुंचे हैं। उन्होंने किसानों को संबोधित करते हुए केंद्र की मोदी सरकार को तानाशाह बताया है।

भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर ने कहा कि अगर सरकार तानाशाह हो जाती है तो लोगों को सड़कों पर आना चाहिए। सरकार को इस आंदोलन को लज्जित करने से बचना चाहिए। हम अपने किसानों का समर्थन करने के लिए यहां हैं और अंत तक उनके लिए खड़े होंगे। 

बता दें कि इस समय केंद्र सरकार और किसानों के बीच बैठक जारी है। वहीं इस बीच  और विपक्षी पार्टियां लगातार किसानों को समर्थन देते हुए मोदी सरकार पर निशाना साध रही है। इस बीच आज पंजाब (Punjab) के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Amrinder singh) देश के गृहमंत्री अमित शाह (Amit shah) से मुलाकात की। गृहमंत्री से मिलने के बाद अमरेंद्र सिंह ने कहा कि किसान आंदोलन राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा है, इसका जल्द ही निदान निकालना चाहिए।

पंजाब के सीएम और गृहमंत्री की मुलाकात के बाद अकाली दल की नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर (Harsimrat Kaur Badal) ने कैप्टन अमरिंदर सिंह पर निशाना साधा है उन्होंने  कैप्टन पर बीजेपी से सांठगांठ होने का आरोप लगाया है।  

गृहमंत्री से मिलने के बाद बोले कैप्टन अमरिंदर सिंह, किसान आंदोलन का जल्द हो निपटारा

हरसिमरत कौर ने किया ट्वीट
केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर ने ट्वीट करके हमला किया है 'कि जब अध्यादेश पास किया गया तब कैप्टन एक इंच भी नहीं हिले और न ही जब किसान रेल की पटरियों पर बैठे तब और न ही उस समय जब किसानों पर वाटर कैनन और आंसू गैस छोड़े गए। वे ठंड में दिल्ली की सड़कों पर बहादुरी से डटे हैं। लेकिन गृह मंत्री उन्हें बुलाते हैं तो वह दौड़कर जाते हैं। लेकिन मिलियन डॉलर का सवाल कि यह किसके हित के लिए है।  

किसान आंदोलन के कारण ढीली होगी जेब, मंडी में सब्जियों की आपूर्ति हो रही है कम

नहीं मानी मांगे तो किसान करेंगे उग्र आंदोलन
किसानों ने चेतानवी दी है कि अगर इस  वार्ता के बाद भी किसी प्रकार का कोई हल नहीं निकलता है तो उनका आंदोलन और अधिक उग्र हो जाएगा। यही नहीं, सभी बॉर्डर को जाम कर दिया जाएगा। साथ ही किसानों ने कहा कि यूपी और हरियाणा के रास्ते आने वाले दूध और सब्जी सहित अन्य सामानों की आपूर्ति को ठप किया जाएगा। 

ये भी पढ़ें-

comments

.
.
.
.
.