Wednesday, Jun 19, 2019

गुरुद्वारा पत्थर साहिब में बनाए गए बौद्ध धार्मिक प्रतीक, विरोध के बाद हटाया

  • Updated on 4/15/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। जम्मू कश्मीर के लेह इलाके में स्थित श्री पत्थर साहिब (Pathar Sahib) गुरुद्वारा की दीवारों पर बौद्ध धार्मिक नारों (Buddhist Religious Slogans) को भित्ती चित्रों के साथ चित्रित किया गया था। जिसे देखकर सिख समुदाय बेहद गुस्से में है। दरअसल, इस मामले का खुलासा तब हुआ जब गुरुद्वारे में मरम्मत का काम चल रहा था।

सिख समुदाय के कुछ लोग जब गुरुद्वारे में दर्शन करने के लिए आए, तो उन्होंने दीवार पर बने हुए बौद्ध धार्मिक चित्रों को देखा। जिसके बाद उन्होंने इसकी शिकायत गुरुद्वारा ट्रस्ट से की। भारतीय सेना, जो गुरुद्वारे का रखरखाव करती है, उन्होंने कहा कि सिख समुदाय की आपत्तियों के बाद गुरुद्वारे की दीवारों को दोबारा से रंग दिया गया है।

जलियांवाला बाग में शहीदों को राहुल गांधी ने दी श्रद्धाजंलि, CM अरमिंदर सिंह भी मौजूद

सोशल मीडिया पर इन दिनों एक वीडियो और कुछ तस्वीरें वायरल हो रही हैं। वीडियो में आरोप लगाया जा रहा है कि सिख समुदाय के पूजा के स्थान को एक आर्मी यूनिट में बदल दिया गया है। इसके लिए 18 गार्ड्स जिम्मेदार हैं, जो गुरुद्वारे का रखरखाव करते हैं।

एक गोपनीय सूत्र ने कहा ‘हम ये देखकर हैरान थे, गुरुद्वारे में सिख धार्मिक प्रतीकों (Sikh Religious Symbols) की जगह बौद्ध धार्मिक कला और पाठ को जोड़ दिया गया था। हमने इसकी शिकायत लेह में मौजूद सेना के अधिकारियों से की और गुरुद्वरे को वापस उसकी मूल स्थिति में लाने की मांग की।’

पंजाब में कांग्रेस से नहीं बनी AAP की बात, पार्टी ने तय अपने उम्मीदवार

वहीं शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (SGPC) के पूर्व अध्यक्ष अवतार सिंह मक्कड़ ने इस मामले में कहा कि यह बेहद गंभीर मुद्दा है। कोई कैसे दूसरो की धार्मिक स्थल पर अपने धार्मिक प्रतीकों को चित्रित कर सकता है? उन्होंने साथ ही कहा कि इससे पहले हमने केंद्र सरकार से गुरुद्वारा एसजीपीसी (SGPC) को सौंपने का आग्रह किया था, लेकिन केंद्र सरकार सहमत नहीं हुई। यदि अब सेना गुरुद्वारे का रखरखाव करेगा, तो उसे गुरुद्वारे को अपवित्र होने से बचाना होगा।

इस मामले में सेना के अधिकारी ने कहा कि ठेकेदार ने धार्मिक चित्रों को मिटा दिया था। लेकिन हमें तुरंत नई तस्वीरें मिल गई थी गुरुद्वारे में लगाने के लिए।

कांग्रेस ने आप को दिया झटका, कहा- पंजाब, हरियाणा में नहीं होगा किसी से गठबंधन

सेना के एक अधिकारी ने कहा कि गुरुद्वारा पत्थर साहिब पूरे लद्दाख सेक्टर में सेना के जवानों के लिए सबसे पूजनीय स्थानों में से एक है। पर्यटन सीजन शुरु होने वाला है और उसके लिए यहां बहुत से नवीनीकरण के कार्य किए जा रहे हैं। अधिकारी ने कहा कि सभी काम पूरी श्रद्धा और पवित्रता के साथ किए जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि गुरुद्वारे के नवीनीकरण के दौरान ठेकेदार ने स्थानीय प्रतीकों को चित्रित कर दिया था। उसका उद्देश्य केवल गुरुद्वारे के सौंदर्य को बढ़ाना था। लेकिन जैसे ही कुछ लोगों ने इसकी शिकायत की, उन चित्रों को तत्काल हटा दिया गया। उन्होंने साथ ही कहा कि भारतीय सेना के जवानों का गुरुद्वारा पत्थर साहिब के साथ गहरा भावनात्मक और आध्यात्मिक जुड़ाव है, इसलिए सेना ऐसा कुछ भी नहीं करेगी जो गुरुद्वारा पठार साहिब की शान को प्रभावित करे।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.