Friday, Feb 03, 2023
-->
bihar-assembly-election-2020-dalit-politics-nitish-kumar-join-jitan-ram-manjhi-jdu-prsgnt

श्याम रजक के जाने पर जीतनराम मांझी की घर वापसी से क्या नीतीश कर पाएंगे डैमेज कंट्रोल, एक नजर...

  • Updated on 8/18/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। बिहार विधानसभा चुनाव से पहले राज्य में बड़ी ही दिलचस्प राजनीती चल रही है. जेडीयू और एलजेपी के बीच खींचतान की राजनीती शुरू हो चुकी है, इस बीच जेडीयू का दलित चेहरा माने जाने वाले श्याम रजक ने आरजेडी का दामन थाम लिया है और इससे हुए खामियाजे की भरपाई के लिए नीतीश कुमार ने जीतनराम मांझी को पार्टी में शामिल करने की तैयारी भी कर ली है और उम्मीद है की जा रही है कि मांझी महागठबंधन तोड़ कर जल्द ही जेडीयू जॉइन कर लेंगे।

वहीँ, अब पार्टी बदलने के बाद श्याम रजक ने नीतीश कुमार को दलित विरोधी बताना शुरू कर दिया है. यहां ये भी बता दें कि जेडीयू के एक और दलित नेता उदय नारायण ने पहले ही पार्टी छोड़ दी थी और अब श्याम रजक के भी पार्टी से जाने पर जेडीयू-बीजेपी दलित समुदाय की नाराजगी चुनाव में झेल सकती है. लेकिन फिर मांझी के आने से जेडीयू पार्टी में दलित समुदाय को रिझाने  में मदद भी मिल सकती है।

जेपी नड्डा का राहुल पर तीखा हमला, कहा- आपका करियर केवल फर्जी खबरें फैलाने पर आधारित

मांझी ने ली नीतिश की साइड
जेडीयू छोड़ने के बाद श्याम रजक ने नीतीश कुमार के खिलाफ मोचा खोल दिया, उन्होंने नीतीश को दलित विरोधी बताया और अपने साथ हुई नाइंसाफी का भी इसी दलित विरोध का हिस्सा बताया। 

उधर, श्याम रजक को जीतनराम मांझी ने आड़े हाथ लेते हुए कहा कि अगर नीतीश कुमार दलित विरोधी हैं तो इतने लंबे समय तक रजक ने नीतीश कैबिनेट में काम कैसे किया। 

मांझी ने कहा कि चुनाव आते ही नीतीश दलित विरोधी हो गए, पहले राज्य मंत्रिमंडल में लाभ पद लेने के बाद अब नीतीश कुमार को दलित विरोधी कहना गलत है।

विवादित राकेश अस्थाना BSF के महानिदेशक नियुक्त, उठे सवाल  

महागठबंधन से अलग होंगे मांझी 
जेडीयू में वापसी के लिए जीतनराम मांझी से कई महीनों से लगातरा बातचीत चल रही थी। जानकार बताते हैं कि जेडीयू मांझी की पार्टी का पूरी तरह से विलय चाहती है लेकिन मांझी ये नहीं चाहते, तो फिर इसके बीच का रास्ता निकाला गया है और अब मांझी और नीतीश कुमार ने कुछ सीटों पर समझौते करने का फैसला लिया है. 

इस बारे में 20 अगस्त को पार्टी की कोर कमेटी की मीटिंग में मांझी फाइनल फैसला ले सकते हैं. उम्मीद है कि मांझी जेडीयू के साथ हाथ मिला सकते हैं।

प्रशांत भूषण के बाद अभिनेत्री स्वरा भास्कर के खिलाफ अवमानना कार्यवाही की तैयारी!

बताते चले कि बिहार में दलित वर्ग की जनसंख्या राज्य की कुल जनसंख्या का लगभग 16%  है और इसलिए भी पार्टियां दलित समुदाय को साधने में लगी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.