Friday, Jun 18, 2021
-->
bihar election 2020 suspense in congress over rjds plans only 21 seats decided prshnt

बिहार चुनाव 2020: RJD की योजनाओं को लेकर कांग्रेस में सस्पेंस, केवल 21 सीटों पर हुआ फैसला

  • Updated on 10/13/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) के मद्देनजर गठबंधन में सीटों का बटवारा जारी है। कांग्रेस (Congress) की बात करे तो पार्टी ने अब तक 21 सीटों के लिए उम्मीदवारों की घोषणा की है, लेकिन अधिकांश वरिष्ठ नेता बाकी निर्वाचन क्षेत्रों के बारे में अभी स्पष्ट नहीं हैं, माना जा रहा है कि कई लोग असामान्य गोपनीयता के कारण आश्चर्यचकित भी होंगे।

दरअसल बिहार विधानसभा चुनाव के लिए राजद और कांग्रेस द्वारा एक सीट साझा समझौते की घोषणा करने के एक हफ्ते के बाद, पार्टियों को अभी तक सीटों की पूरी सूची का पता नहीं चल पाया है कि वे चुनाव लड़ेंगी, कहा जा रहा है कि इससे भ्रम पैदा होगा और कांग्रेस के रैंकों में नाराजगी बढ़ेगी।

अंतरिक्ष में आज होगा अलग नजारा, पृथ्वी के करीब होगा मंगल ग्रह

सूची को गुप्त रखने पर उठे सवाल
कांग्रेस ने अब तक 21 सीटों के लिए उम्मीदवारों की घोषणा की है, लेकिन अधिकांश वरिष्ठ नेता बाकी निर्वाचन क्षेत्रों के बारे में स्पष्ट नहीं हैं, जो पार्टी चुनाव लड़ेगी, जिससे कई लोग असामान्य गोपनीयता के कारण आश्चर्यचकित होंगे। 

एक वरिष्ठ नेता का कहना है कि हमने संख्याओं पर ध्यान केंद्रित किया, 70 सीटों पर जोर दिया। मुझे बताया गया है कि राजद ने जिन सीटों पर मजबूत उम्मीदवार उतारे हैं। मुझे नहीं पता कि सूची को गुप्त क्यों रखा गया है।

फल, सब्जी महंगा होने से खुदरा मुद्रास्फीति 7.34 फीसदी, 8 महीने का उच्च स्तर 

कांग्रेस को सुपौल सीट मिलना तय
सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक एक कांग्रेस नेता ने कहा कि कांग्रेस को सुपौल सीट मिलना तय है। राज्य के ऊर्जा मंत्री बिजेंद्र प्रसाद यादव यहां से मौजूदा विधायक हैं, जो 2015 में जद (यू) के उम्मीदवार के रूप में जीते थे जो तब राजद और कांग्रेस के साथ थे। 2010 में राजद ने इस सीट पर चुनाव लड़ा था और दूसरे और कांग्रेस तीसरे स्थान पर आ गई थी। यह हमारे लिए एक कठिन सीट है।

अनिल अंबानी की याचिका पर दिल्ली हाई कोर्ट ने मांगी मोदी सरकार, SBI की राय

शरद यादव की बेटी लड़ सकती हैं चुनाव
नेताओं का कहना है कि मधेपुरा में बिहारीगंज सीट कांग्रेस के पास आ रही है। राजद 2010 में उस सीट पर दूसरे स्थान पर आ गया था। 2015 में, वह सीट-बंटवारे की व्यवस्था के हिस्से के रूप में जद (यू) में चला गया था। एक नेता ने बताया कि, हमारे उम्मीदवार, वरिष्ठ नेता रंजीत रंजन, 2010 में तीसरे स्थान पर आए, अटकलें हैं कि शरद यादव की बेटी वहां से चुनाव लड़ सकती हैं। शरद यादव ने अपनी खुद की पार्टी बना ली है जिसने सोमवार को 51 सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा की।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें

comments

.
.
.
.
.