Thursday, Feb 25, 2021
-->

कचरे से बना 'शानदार' तोहफा पाने पर PM मोदी ने खत लिखा कहा...

  • Updated on 5/23/2017

Navodayatimes

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। बिहार के समस्तीपुर जिले की गृहिणी गीता देवी ने जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उपहार देने के लिए प्लास्टिक के कचरे से एक टोकरी बनाई और जब उस उपहार को पीएम मोदी के पास भेजा तब उन्हें उम्मीद नहीं थी कि मोदी उन्हें कोई जवाब भी देंगे, लेकिन प्रधानमंत्री ने उन्हें हैरान करते हुए ना केवल इस शानदार उपहार का संज्ञान लिया, बल्कि उनके हस्तशिल्प में एक लघु स्तर के उद्योग की अपार संभावना और स्वच्छ भारत अभियान का एक प्रभावी औजार भी देखा।

आतंकवाद के खिलाफ LoC पर सेना की कार्रवाई का सरकार ने किया समर्थन

बिहार की रहने वाली 50 वर्षीय गीता प्लास्टिक के कचरे जैसे रैपर और पॉलीथीन का इस्तेमाल कर गुलदान, टोकरियां और इस तरह की दूसरी चीजें बनाती हैं। गीता ने अपने सौतेले बेटे मनोज कुमार झा के मोदी को उपहार में एक टोकरी भेजने से उत्साहित होकर पिछले महीने अपना तोहफा प्रधानमंत्री कार्यालय भेजा, और उनके परिवार को हैरान करते हुए मोदी ने आज गीता की मेहनत के लिए उनकी तारीफ की।

Evening Bulletin : सिर्फ एक क्लिक में पढ़ें, अभी तक की बड़ी खबरें

गीता के परिवारवालों ने प्रधानमंत्री का लिखा पत्र उनके लिए पढ़ा, क्योंकि वह निरक्षर हैं। प्रधानमंत्री ने पत्र में लिखा, ‘‘प्लास्टिक के कचरे का इस्तेमाल कर खूबसूरत उत्पाद बनाना शानदार है। यह ना केवल ‘स्वच्छ भारत’ अभियान के लिए उपयोगी है बल्कि इसमें लघु स्तर के उद्योग के लिए अपार संभावना है।" इसके बाद उन्होंने कहा कि मैं बहुत खुश हूं कि मोदी जी ने मुझे जवाब दिया।

इस लॉन्चर का इस्तेमाल कर भारतीय सेना ने पाक को दिया मुंह तोड़ जवाब
   
गीता एक गृहिणी हैं, जबकि उनके पति रामचंद्र झा एक छोटे किसान हैं। गीता यह काम शौकिया तौर पर करती हैं और उन्होंने कभी अपनी कृतियों को बेचने के बारे में नहीं सोचा। उनके पति ने कहा कि अब जब हमें सीधा प्रधानमंत्री से प्रोत्साहन मिला है, हमें पता है कि ऐसा हो सकता है, लेकिन हमारे पास किसी भी व्यापार के लिए धन नहीं है। अगर हमें कर्ज मिले तो संभव है कि ऐसा किया जा सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.