bio-terrorism is a big threat in the coming times: rajnath singh

बायो टेररिज्म आने वाले समय में है बड़ा खतरा: राजनाथ सिंह

  • Updated on 9/12/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Minister of Defence,Rajnath Singh) ने कहा आने वाले समय में बायो टेररिज्म एक बड़ा खतरा है। गुरुवार को राजनाथ सिंह ने शंघाई कोऑपरेशन ऑर्गनाइजेशन (Shanghai Cooperation Organisation) मिलिट्री मेडिसिन कॉन्फ्रेंस में हिस्सा लिया। इस दौरान उन्होंने कहा भविष्य में आने वाले खतरों और चुनौतियों से निपटने के लिए भारत और भारतीय सेना पूरी तरह तैयार है। उन्होंने बायो टेररिज्म को खतरा बताते हुए कहा ऐसी स्थिति में समय की मांग है कि इन हमलों से निपटने के लिए सेना-मेडिकल सर्विस पूरी तरह तैयार रहें।

लद्दाख में राजनाथ सिंह ने पाक को हड़काया, कहा कश्मीर तुम्हारा था ही कब जो रो रहे हो

कई देशों के प्रतिनिधि हुए शामिल 
शंघाई कोऑपरेशन ऑर्गनाईजेशन (SCO) मिलीट्री मेडिसन कॉन्फ्रेंस में कई देशों के प्रतिनिधि शामिल हुए। यहा सेना से जुड़ी सभी मेडिकल शोध के बारे में बात की गई है। कॉन्फ्रेंस के दौरान राजनाथ सिंह ने कहा दुनिया में कई देश एक साथ मिलकर सैन्य अभ्यास कर रहे हैं। जिससे आतंकवाद के खिलाफ एक साथ लड़ा जा सके और क्षेत्रीय शांति स्थापित हो सके।

रक्षा मंत्री राजनाथ ने पाक को चेताया, कहा- अब जो बात होगी POK पर होगी

टेक्नॉलोजी के माध्याम से भी लड़ाई लड़ी जा रही है
उन्होंने कहा इस SCO कॉन्फ्रेंस में वो देश शामिल है जो दुनिया में बड़ा स्थान रखते है। राजनाथ सिंह ने कहा आज के समय में सिर्फ हथियारों से ही नही टेक्नॉलोजी के माध्याम से भी लड़ाई लड़ी जा रही है ऐसे में यह जरूरी है कि सेना के साथ उनकी मेडिकल टीम भी इसके लिए तैयार रहे।

राजनाथ के "परमाणु हथियार" वाले बयान पर पाकिस्तान ने दी गीदड़भभकी, कहा दुनिया ध्यान दे

वैज्ञानिकों की शोध भी इसके लिए जारी है
उन्होंने बताया कि न्यूक्लियर, केमिकल और बॉयोलॉजिकल के क्षेत्रों में माहौल बीगड़ रहा है। ऐसे खतरे को अब पहचाना जा रहा है और वैज्ञानिकों की शोध भी इसके लिए जारी है। ऐसी चुनौतियों से निपटने के लिए सेना को हर समय तैयार होना चाहिए।  


 


  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.