Saturday, Jul 20, 2019

किरण मजूमदार शॉ ने दिया विदेशी विश्वविद्यालय को सबसे ज्यादा डोनेशन

  • Updated on 7/10/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। बायोकॉन की संस्थापक किरण मजूमदार शॉ और उनके पति जॉन शॉ ने स्कॉटलैंड के ग्लासगो विश्वविद्यालय में एक विस्तार परियोजना में योगदान के इरादे से विश्वविद्यालय को 75 लाख अमेरिकी डॉलर का दान दिया है। 

कश्मीरी अलगाववादी आसिया अंद्राबी की प्रॉपर्टी NIA ने की जब्त

जॉन इस विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र रहे हैं। उन्होंने कहा कि 50 लाख अमेरिकी डॉलर की राशि अनुसंधान केंद्र के लिये होगी। इसका निर्माण कार्य विश्वविद्यालय के एक अरब पाउंड की लागत वाली परिसर विकास परियोजना के तहत वेस्टर्न इनफर्मरी स्थल पर चल रहा है। नये केंद्र में एक तल पर लोगों के लिये एक सार्वजनिक खुली जगह होगी जिसका नाम ‘शॉ प्लाजा’ होगा। 

उत्तर प्रदेश : सपा ने उपचुनाव के लिए मांगे प्रत्याशियों के आवेदन

इसके अलावा 25 लाख अमेरिकी डॉलर की राशि ‘मजूमदार-शॉ चेयर ऑफ प्रेसिजन ओंकोलॉजी’ नाम से एक नये प्रोफेशनल चेयर के निर्माण के लिये दी गयी। बायोकॉन के उपाध्यक्ष जॉन ने कहा, ‘‘ग्लासगो विश्वविद्यालय का र्गिवत पूर्व छात्र होने के नाते मुझे ऐसे समय में विश्वविद्यालय को उपहार देने का सौभाग्य प्राप्त हुआ जब यहां बड़ा विस्तार हो रहा है। किरण और मुझे दोनों को यहां से डॉक्टरेट की उपाधि से सम्मानित होने का गौरव मिला है।’’

अब BSF और CRPF की तरह होगा रेल सुरक्षा बल (RPF) का दर्जा

उन्होंने कहा, ‘‘हमारी कंपनी बायोकॉन की सफलता के कारण ही हम लोकहित में कुछ कर पाये हैं। मधुमेह और कैंसर बायोकॉन के मुख्य रूचि वाले क्षेत्र हैं जो ग्लासगो में अनुसंधान कार्य से मिलती है। इसलिए हमारा यह उपहार कैंसर के क्षेत्र में अनुसंधान और इसके निवारण में सहयोग करेगा। ग्लासगो विश्वविद्यालय के पास आधुनिक विज्ञान को नये स्तर पर ले जाने और एक वैश्विक मान्यताप्राप्त अनुसंधान केंद्र बनने की क्षमता है।’’ 

यमुना जल संरक्षण योजना पर पैनल रिपोर्ट को केजरीवाल कैबिनेट की मंजूरी

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.