Thursday, May 13, 2021
-->
bjp amit malviya said ashok gehlot must call for a floor test rajasthan politics pragnt

BJP का दावा- अल्पमत में है गहलोत सरकार, फ्लोर टेस्ट कराया जाए

  • Updated on 7/13/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। राजस्थान (Rajasthan) के उपमुख्‍यमंत्री सचिन पायलट (Sachin Pilot) ने बगावती तेवर के बीच आज मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने कांग्रेस विधायक दल की बैठक में पार्टी शक्ति का प्रदर्शन करते हुए पूर्ण बहुमत का ऐलान किया। इस बैठक पर बीजेपी (BJP) ने सवाल उठाते हुए राज्य में फ्लोर टेस्ट कराने की मांग की है। 

राजस्थान में हुई IT रेड के बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने किया केंद्र सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन

BJP ने की फ्लोर टेस्ट की मांग
बीजेपी आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय (Amit Malviya) ने राजस्थान में चल रहे राजनीतिक संकट के बीच कांग्रेस पर निशाना साधा। अमित मालवीय ने राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत को कहा कि अगर उनके पास नंबर है, तो उन्हें जल्‍द से जल्‍द फ्लोर टेस्ट कराकर अपना बहुमत साबित करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि अगर गहलोत विधायकों को रिजॉर्ट में छिपा रहे हैं तो निश्चित रूप से उनके पास संख्या बल नहीं है और वो केवल टाल रहे हैं। बता दें कि राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत के मीडिया सलाहकार ने बताया था कि विधायकों की बैठक में 107 विधायक मौजूद हैं।

राजस्थान: डीके शिवकुमार ने दिया बड़ा बयान, कहा- सच्चे कांग्रेसी हैं सचिन पायलट, नहीं छोड़ेंगे पार्टी

CLP ने गहलोत के समर्थन में प्रस्ताव पारित किया
कांग्रेस विधायक दल ने सोमवार को जयपुर में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के समर्थन में प्रस्ताव पारित किया और सोनिया गांधी और राहुल गांधी के नेतृत्व में आस्था जताई। मुख्यमंत्री गहलोत के सरकारी निवास पर विधायक दल की बैठक में यह प्रस्ताव पारित किया गया। बैठक में कांग्रेस तथा उसके समर्थक निर्दलीय एवं अन्य विधायक मौजूद थे। पार्टी सूत्रों ने दावा किया कि कुल मिलाकर 107 विधायक इस महत्वपूर्ण बैठक में शामिल हुए।

कांग्रेस विधायक दल की बैठक में हुआ बड़ा फैसला, पार्टी के खिलाफ जाने वालों पर होगी कार्रवाई

बैठक में शामिल नहीं हुए सचिन पायलट
उप मुख्यमंत्री और पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट द्वारा बागी तेवर अपना लिए जाने के मद्देनजर यह महत्वपूर्ण बैठक थी जिसमें विधायकों ने सरकार विरोधी व पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल लोगों के खिलाफ कड़ी अनुशासनात्मक कार्रवाई की मांग की चाहे वे पदाधिकारी हों या विधायक दल के सदस्य। उप मुख्यमंत्री पायलट व उनके करीबी माने जाने वाले विधायक इस बैठक में शामिल नहीं हुए।

डेटा सिक्योरिटी को लेकर PM मोदी ने गूगल के CEO सुंदर पिचाई से की खास बातचीत, ट्वीट करके कहा...

होटल में ले जाए गए विधायक
प्रस्ताव में कहा गया है, 'कांग्रेस विधायक दल पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी, पार्टी नेता राहुल गांधी के नेतृत्व में आस्था व भरोसा व्यक्त करता है। यह बैठक मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार में सर्वसम्मति से समर्थन व्यक्त करती है।' बैठक के बाद विधायकों को बसों से दिल्ली रोड पर एक निजी होटल में ले जाया गया। पार्टी सूत्रों का कहना है कि मौजूदा संकट निपटने तक संभवत: ये विधायक वहीं रुकेंगे। 

comments

.
.
.
.
.