Friday, May 14, 2021
-->
bjp ct ravi attack rahul gandhi jawaharlal nehru gave tibet to china congress pragnt

राहुल के बयान पर BJP का पलटवार, कहा- कांग्रेस को एहसास तो हुआ कि नेहरू से हुई थी बड़ी गलती

  • Updated on 2/12/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। 'भारत माता का एक टुकड़ा' चीन को देने संबंधी कांग्रेस (Congress) के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के आरोपों पर बीजेपी (BJP) ने उन्हें आड़े हाथों लिया। इसके साथ ही बीजेपी ने आरोप लगाया कि यह पड़ोसी देश को 38,000 वर्ग किलोमीटर जमीन 'उपहार' में देने की पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की 'महा भूल' के कांग्रेस के एहसास की स्वीकारोक्ति है।

कांग्रेस का केंद्र पर हमला, कहा- मुनाफाखोरी में लिप्त है सरकार, राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन की योजना बना

राहुल पर BJP का पलटवार
भाजपा महासचिव सीटी रवि (CT Ravi) ने एक ट्वीट में दावा किया, 'मुझे खुशी है कि कांग्रेस ने अंतत: यह एहसास किया कि प्रधानमंत्री नेहरू ने चीन को 38,000 वर्ग किलोमीटर भूमि उपहार में देने की 'महा भूल' की। क्या वह अपने सह-स्वामी (को-ऑनर), कायर राहुल गांधी से प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ निराधार आरोप लगाने के लिए सवाल करेगी।'

राहुल गांधी ने PM मोदी को बताया डरपोक तो BJP नेताओं ने बताया 'मंदबुद्धि'

राहुल गांधी ने PM- रक्षा मंत्री पर लगाया आरोप
इससे पहले कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष गांधी ने चीन के साथ सीमा पर गतिरोध को लेकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की ओर से संसद के दोनों सदनों में दिए गए वक्तव्य की पृष्ठभूमि में शुक्रवार को आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'भारत माता का एक टुकड़ा' चीन को दे दिया। उन्होंने यह आरोप भी लगाया कि प्रधानमंत्री चीन के सामने झुक गए और उन्होंने सैनिकों की शहादत के साथ विश्वासघात किया है।

गौरतलब है कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बृहस्पतिवार को संसद के दोनों सदनों को बताया कि चीन के साथ पैंगोंग झील के उत्तर एवं दक्षिण किनारों पर सेनाओं के पीछे हटने का समझौता हो गया है और भारत ने इस बातचीत में कुछ भी खोया नहीं है।

अनुराग ठाकुर बोले- ‘हम दो, हमारे दो’ से राहुल का मतलब ‘दीदी, जीजाजी और परिवार से’

अप्रैल 2020 की स्थिति बहाल हो- राहुल
राहुल गांधी ने यह आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री चीन के सामने झुक गए और उन्होंने सैनिकों की शहादत के साथ विश्वासघात किया है। कांग्रेस नेता ने संवाददाताओं से कहा, 'कल रक्षा मंत्री ने दोनों सदनों में बयान दिया। कई ऐसी चीजें हैं जिन्हें स्पष्ट करने की जरूरत है। पहली बात यह है कि इस गतिरोध के शुरुआत से ही भारत का यह रुख रहा है कि अप्रैल, 2020 से पहले की यथास्थिति बहाल होनी चाहिए, लेकिन रक्षा मंत्री के बयान से स्पष्ट है कि हम फिंगर 4 से फिंगर 3 तक आ गए।'

इंटरनेट पर रोक शासनों का पसंदीदा उपाय बन गया है: डिजिटल राइट्स ग्रुप

पैंगोंग झील पर चीन से करार पर बोले राहुल
गौरतलब है कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को संसद के दोनों सदनों को बताया कि चीन के साथ पैंगोंग झील के उत्तर एवं दक्षिण किनारों पर सेनाओं के पीछे हटने का समझौता हो गया है और भारत ने इस बातचीत में कुछ भी खोया नहीं है। सिंह ने कहा कि पैंगोंग झील क्षेत्र में चीन के साथ सेनाओं के पीछे हटने का जो समझौता हुआ है, उसके अनुसार दोनों पक्ष अग्रिम तैनाती चरणबद्ध, समन्वय और सत्यापन के तरीके से हटाएंगे। उन्होंने यह भी बताया कि अब भी पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तैनाती और गश्ती के बारे में 'कुछ लंबित मुद्दे' बचे हुए हैं जिन्हें आगे की बातचीत में रखा जाएगा।

ये भी पढ़ें:

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.