Thursday, Feb 09, 2023
-->
bjp demands action against akhilesh yadav from election commission rkdsnt

भाजपा ने की चुनाव आयोग से अखिलेश यादव के खिलाफ कार्रवाई की मांग

  • Updated on 3/9/2022

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने बुधवार को समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष अखिलेश यादव पर ‘‘झूठ फैलाने और लोगों को उकसाने’’ का आरोप लगाया और निर्वाचन आयोग से उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की। केंद्रीय मंत्री व उत्तर प्रदेश के प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान के नेतृत्व में भाजपा नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल ने निर्वाचन आयोग के अधिकारियों से मुलाकात की और उन्हें इस सिलसिले में एक ज्ञापन भी सौंपा। प्रतिनिधिमंडल में केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी और जी किशन रेड्डी भी शामिल थे।  बाद में पत्रकारों से बातचीत में प्रधान ने कहा कि विधानसभा चुनाव में हार के भय से अखिलेश यादव हताश हो गए हैं और बौखला गए हैं।

5 राज्यों में विधानसभा चुनाव: मतगणना के लिए चुनाव आयोग ने की पूरी तैयारी 

  उन्होंने कहा, ‘‘एक संवैधानिक पद पर रहने के बावजूद कल उन्होंने जिस भाषा का सार्वजनिक रूप से प्रयोग किया और संवैधानिक व्यवस्थाओं पर सवाल उठाए, यह मानसिकता बहुत खतरनाक है।’’  प्रधान ने कहा कि चुनाव में हार भी स्वीकार करनी चाहिए लेकिन आपत्तिजनक भाषा का प्रयोग कर, ईवीएम पर सवाल उठाकर, चुनाव आयोग की विश्वसनीयता पर सवाल उठाकर अखिलेश यादव ने न केवल मतदाताओं का बल्कि लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं की पवित्रता का भी अपमान किया है। उन्होंने कहा, ‘‘हमने चुनाव आयोग से मांग की है कि इस प्रकार के अराजक तत्वों के खिलाफ जो हार के भय से पगला गए हैं... भयभीत हैं... जो जनता को उकसाने का काम कर रहे हैं...कानूनी कार्रवाई होनी चाहिए।’’     

दिल्ली MCD चुनाव टलने पर केजरीवाल बोले- BJP भाग गई, हार मान ली

यादव ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर प्रशासनिक मशीनरी के जरिये वोटों की चोरी का आरोप लगाया था। साथ ही दावा किया था कि उत्तर प्रदेश सरकार के अधिकारी अपने अधीनस्थों को निर्देश दे रहे हैं कि जहां भाजपा हार रही है, वहां मतगणना धीमी कर दी जाए। उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा, ‘‘अगर हमने वोट दिया है तो मैं अपने नौजवानों, किसानों से कहूंगा कि उतनी ही हमारी जिम्मेदारी बनती है कि वोट को बचाएं। अगर वोट नहीं गिना जाएगा तो लोकतंत्र कहां जाएगा? यह लोकतंत्र की आखिरी लड़ाई है।’’  यादव ने कहा, ’’ये लोकतंत्र का आखिरी चुनाव है, क्योंकि, इसके बाद जिस तरह से आजादी के लिए लड़ाई लड़ी गई उसी तरह से आपको, हमको क्रांति करनी पड़ेगी।’’ 

चित्रा-अज्ञात बाबा प्रकरण के बीच दूसरे कार्यकाल के लिए कोशिश नहीं करेंगे NSE प्रमुख लिमये

अखिलेश ने मीडिया पर तंज कसा 
समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बुधवार को अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं से चुनावी नतीजों में हेराफेरी करने के सत्तारूढ़ दल के सभी षड्यंत्रों को विफल करने का आह्वान किया और भाजपा पर धोखाधड़ी करने का आरोप लगाया। कार्यकर्ताओं का आह्वान करते हुए सपा अध्यक्ष ने ट्वीट किया, ‘‘मतगणना केन्द्रों को ‘लोकतंत्र का तीर्थ’ समझकर वहाँ जाएं, डटे रहें और सत्तापक्ष द्वारा चुनाव परिणाम में हेराफेरी की हर साकाशि को असंभव बना दें! सपा-गठबंधन की जीत हो रही है, तभी तो भाजपाई धांधली की कोशिश कर रहे हैं।‘‘ इससे पहले मीडिया पर तंज कसते हुए अखिलेश ने ट््वीट किया था, ‘‘लिख रहा हूँ ये सोचकर कि शायद जागेगा कामीर, बे$खबर से हो गये हैं न जाने क्यों कुछ खबरनवीस।‘‘

पीएम मोदी ने अब गुजरात के लिए कसी कमर, दो दिवसीय दौरे में करेंगे रोड शो और रैली

सपा द्वारा बृहस्पतिवार को जारी एक बयान के अनुसार, अखिलेश ने कहा कि उत्तर प्रदेश में जनआकांक्षा और सत्तालोलुपता के बीच जंग में 10 मार्च, 2022 का दिन निर्णायक सिद्ध होगा। उन्होंने दावा किया कि भाजपा के झूठे वादों, बढ़ती महंगाई एवं भ्रष्टाचार से क्षुब्ध मतदाताओं ने विधानसभा चुनाव के सभी 7 चरणों के मतदान में जमकर समाजवादी पार्टी और गठबंधन दलों के पक्ष में वोट डाला है और भाजपा के खिलाफ जनादेश दिया है। उन्होंने कहा कि भाजपा को यह अहसास हो गया है कि जनता ने उसको सत्ता से बाहर का रास्ता दिखा दिया है इसीलिए वह साजिशों का सहारा ले रही है।  यादव ने कहा, ‘‘भाजपा झूठ, फरेब और छलछद्म की राजनीति करने से बाज आने वाली नहीं है। मतदान के दौरान उसने अपने विरोधियों के साथ दुव्र्यवहार किया। बड़ी संख्या में लोग मतदान से वंचित रहे। ईवीएम बहुत जगह टीन का खाली डब्बा बनकर रह गई। अब अपनी खीझ मिटाने के लिए भाजपा नेता अफवाहबाजी के साथ वोटों की हेराफेरी के दुष्प्रयास में जुट गए हैं। जनता में भ्रम फैलाने के लिए एक्जिट पोल का सहारा लिया गया है, जिसकी जनता ने पोल खोल दी है।’’  

EVMs के साथ VVPAT पर्चियों से संबंधित PIL पर सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

    सपा अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा द्वारा समाजवादी साथियों का मनोबल तोडऩे का प्रयास किया जा रहा है लेकिन इसका कोई असर नहीं होगा क्योंकि जनता ने यह माना है कि विधानसभा चुनाव 2022 में लोकतंत्र और संविधान की प्रतिष्ठा बचाना उनका नैतिक धर्म है। उन्होंने कहा कि राज्य कर्मचारियों सहित बेरोजगारी से पीड़ित नौजवानों और भाजपा की कुनीतियों से त्रस्त किसानों, गरीबों ने उसकी कारगुजारियों को उजागर कर उसे सबक सिखाने का काम किया है। उन्होंने दावा किया कि जनता ने समाजवादी गठबंधन (सपा और रालोद) को हृदय से अपना शुभचिंतक माना है। 

सपा ने लगाया EVM में हेराफेरी का आरोप, बनारस-सोनभद्र- बरेली प्रशासन ने की कार्रवाई

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.