Tuesday, Aug 03, 2021
-->
bjp kapil mishra agitated at hoisting the flag on the red fort of farmers pragnt

किसानों के लाल किले पर झंडा फहराने पर भड़के कपिल मिश्रा, कहा- शर्मनाक दिनों में से एक

  • Updated on 1/26/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) में नए कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन उग्र हो गया है। दिल्ली की विभिन्न सीमाओं से बैरीकेड तोड़ किसानों का जत्था आईटीओ और लाल किला तक पहुंच गया। इस दौरान किसानों को रोकने की कोशिश कर रहे पुलिस पर प्रदर्शनकारियों ने पथराव किया। 

किसान ट्र्र्रैक्टर परेड में हिंसा: कांग्रेस के बाद शिवसेना ने मोदी सरकार पर बोला हमला

लाल किले पर झंड़ा फहराने पर भड़के BJP नेता
लाल किले पर पहुंचे प्रदर्शनकारियों ने हंगामा शुरू किया। प्रदर्शनकारियों ने लाल किले के प्राचीर पर अपने संगठन का झंडा फहराया। हालांकि पुलिस ने झंडे को उतार दिया है। बता दें कि यह झंडा वहां फहराया गया है, जहां 15 अगस्त को प्रधानमंत्री तिरंगा फहराते हैं। किसानों के लाल किले पर झंडा फहराने पर बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए इसे शर्मनाक बताया है।

बीजेपी (BJP) नेता कपिल मिश्रा (Kapil Mishra) ने ट्वीट कर लिखा, 'आतंकवादी संगठन 'सिख फॉर जस्टिस' ने दो हफ्ते पहले खुलेआम एलान किया था लाल किले पर खालिस्तानी झंडा लहराने का आतंकियों ने एलान करके लाल किले पर खालिस्तानी झंडा फहरा दिया। ये आजाद भारत के सबसे शर्मनाक दिनों में से एक।'

किसानों का समर्थन करते हुए सपा कार्यकर्ताओं ने निकाली ट्रैक्टर रैली, किसान एकता जिंदाबाद के लगे नारे

जामिया और सीलमपुर में बन रही योजना- मिश्रा
इससे पहले कपिल मिश्रा ने ट्वीट कर कहा कि फिर से दिल्ली को जलाया जा रहा है। फिर से दिल्ली को हिंसा में झोंका जा रहा हैं। अभी जामिया, सीलमपुर, जामा मस्जिद जैसे इलाको से भी भीड़ निकलने की योजनाएं बनाई जा रही हैं। हिंसा करने वालों के खिलाफ कठोर कार्यवाही जरूरी है।

तस्वीरों में देखें किसान परेड में कैसे दिखे अजब-गजब रंग, फूलों से सजे टैक्ट्रर

लालकिले में घुसे प्रदर्शनकारी किसान
बता दें कि ट्रैक्टर परेड के लिए निर्धारित मार्ग से हटकर प्रदर्शनकारी किसानों का एक समूह मंगलवार को लालकिले में घुस गया और राष्ट्रीय राजधानी स्थित इस ऐतिहासिक स्मारक के कुछ गुंबदों पर झंडे लगा दिए। पुलिस द्वारा आईटीओ से खदेड़े गए प्रदर्शनकारी किसानों का एक समूह अपने ट्रैक्टर लेकर लालकिला परिसर पहुंच गया। ये प्रदर्शनकारी लालकिला परिसर में घुस गए और उस ध्वज-स्तंभ पर अपना झंडा लगाते दिखे जहां से प्रधानमंत्री 15 अगस्त को राष्ट्रीय ध्वज फहराते हैं। उन्होंने लालकिले के कुछ गुंबदों पर भी अपने झंडे लगा दिए।

राहुल गांधी ने दी उग्र होते किसानों को नसीहत- हिंसा किसी समस्या का हल नहीं....

पुलिस ने लाठीचार्ज और आंसू गैस के गोले छोड़े
इससे पहले प्रदर्शनकारी किसान आईटीओ पहुंच गए और लुटियंस इलाके की तरफ बढ़ने की कोशिश की। इसपर पुलिस को लाठीचार्ज और आंसू गैस के गोलों का इस्तेमाल करना पड़ा। प्रदर्शनकारियों ने ट्रैक्टर परेड के निर्धारित समय से काफी पहले ही दिल्ली के विभिन्न सीमा बिन्दुओं से दिल्ली के भीतर बढ़ना शुरू कर दिया और अनुमति न मिलने के बावजूद वे मध्य दिल्ली स्थित आईटीओ पहुंच गए। दिल्ली पुलिस ने किसानों को इस शर्त के साथ ट्रैक्टर परेड की अनुमति दी थी कि वे राजपथ पर गणतंत्र दिवस परेड के समाप्त होने के बाद तय किए गए मार्गों पर ही अपनी परेड करेंगे। हालांकि, आज किसान मध्य दिल्ली की ओर बढ़ने पर अड़ गए जिससे अफरातफरी मच गई।

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.