Sunday, Sep 26, 2021
-->
bjp mla surendra singh defends on ballia firing incident pragnt

बलिया गोलीकांड: BJP विधायक ने दी सफाई, कहा- आरोपी ने आत्मरक्षा में चलाई गोली

  • Updated on 10/16/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के बलिया (Ballia) में दबंगों ने सस्ते गल्ले की दुकान के चयन को लेकर बुलाई गई बैठक में पुलिस के सामने एक शख्स की गोली मारकर हत्या कर दी। इस हत्या के बाद से ही पूरे जिले में डर का माहौल बन गया है और विपक्ष लगातार योगी सरकार पर हमला बोल रहा है।

हाथरस घटना में नया मोड़, आरोपी लवकुश के घर से CBI ने बरामद किए ‘खून’ से सने कपड़े

बीजेपी विधायक ने दी सफाई
ऐसे में बलिया के बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह ( Surendra Singh ) ने इस मामले पर अपनी प्रतिकिया देते हुए कहा कि यह घटना बहुत ही दुखद है। मैं एकतरफा जांच की निंदा करता हूं। कोई भी उन महिलाओं के दर्द पर ध्यान नहीं दे रहा है जो घायल हो गईं। इतना ही नहीं उन्होंने ये भी कहा कि धीरेंद्र सिंह ने आत्मरक्षा में गोली चलाई थी।

हाथरस मामला: पीड़िता के भाई की मांग- परिवार समेत केस को शिफ्ट किया जाए दिल्ली

क्या था मामला
दरअसल, बलिया जिले की ग्राम सभा दुर्जनपुर और हनुमानगंज की कोटे की दो दुकानों के आवंटन को लेकर बीते गुरुवार को पंचायत भवन पर खुली बैठक बुलाई गई थी। इसमें बैरिया के एसडीएम (SDM) सुरेश पाल, सीओ (CO) चंद्रकेश सिंह और बीडीओ (BDO) गजेन्द्र प्रताप सिंह भी उपस्थित थे, इसके अलावा यहां रेवती थाने की पुलिस फोर्स मौजूद थी।

राहुल राजपूत हत्याकांड: छठा आरोपी गिरफ्तार, पीड़ित पिता ने की फांसी की मांग

वोटिंग को लेकर दो पक्षों में हुई भिडंत
इस बैठक के दौरान दुर्जनपुर की दुकान के लिये आम सहमति न बनते देख दो समूहों के बीच वोटिंग कराने का निर्णय लिया गया। ये दो समूह थे मां सायर जगदंबा स्वयं सहायता समूह और शिव शक्ति स्वयं सहायता समूह। यहां उन्हीं लोगों को मतदान करने का अधिकार दिया गया जिनके पास आधार या अन्य कोई पहचान पत्र होगा। मामला तब बिगड़ गया. जब एक समूह के पास अधार व पहचान पत्र मौजूद थे, लेकिन दूसरे समूह के पास वोटिंग के लिए कोई प्रमाण नहीं था। इस बात पर दोनों पक्षों के बीच विवाद बढ़ते देख पुलिस ने मामले को शांत कराने की कोशिश की, लेकिन विवाद नहीं थमा।

यूपी विधानसभा के आगे महिला ने खुद को किया आग के हवाले, पुलिस के हाथ-पांव फूले

गोलीबारी में जयप्रकाश नामक युवक की मौत
मामला इतना बिगड़ क्या की एक पक्ष ने अधिकारियों पर ही पक्षपात करने का आरोप लगा दिया, देखते ही देखते दोनों पक्षों के बीच ईट-पत्थर से शुरू हुई भिंड़त गोलीबारी में तब्दील हो गई। इस दौरान दुर्जनपुर के जयप्रकाश उर्फ गामा पाल (46) को शरीर में एक के बाद एक चार गोलियां उतार दीं, जिसके बाद मौके पर ही जयप्रकाश ने दम तोड़ दिया। फिलहाल, यहां तनाव की स्थिति बढ़ते देख भारी तादात में पुलिस बल की तैनाती कर दी गई है। पुलिस आगे की जांच में जुट गई है। 

UP के गोंडा में तीन बहनों पर एसिड अटैक, एक की हालत नाजुक, जांच में जुटी पुलिस

इन अधिकारियों पर गिरी गाज
बलिया में पुलिस की मौजूदगी में हुई इस घटना को लेकर सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने मौके पर मौजूद एसडीएम सुरेश पाल, सीओ चंद्रकेश सिंह और पुलिसकर्मियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित करने के आदेश जारी कर दिये हैं। इसके साथ ही आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। इसके अलावा मामले में मौके पर मौजूद सभी अधिकारियों की भूमिका की जांच की जाएगी और जिम्मेदार पाए जाने पर आपराधिक कार्रवाई किए जाने की बात कही है। फिलहाल, पुलिस आरोपियों की तलाश में जुट गई है। 

comments

.
.
.
.
.