Sunday, Sep 26, 2021
-->
bjp modi dearness allowance of central employees increased from 11 percent 28 percent rkdsnt

बढ़ती महंगाई के बीच मोदी सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों का बढ़ाया DA

  • Updated on 7/14/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। केंद्रीय कर्मचारियों के लिए खुशखबरी है। केंद्र सरकार ने महंगाई भत्ते (DA) पर लगी रोक हटा ली है। इस तरह लंबे समय से डीए का इंतजार कर रहे केंद्रीय कर्मचारियों के लिए बेहतरीन खबर है। 

संसद सत्र को लेकर आंदोलित किसानों ने विपक्षी दलों पर बनाया दबाब

सरकार ने महंगाई भत्ते पर लगी रोक हटाते हुए महंगाई भत्ता 11 फीसदी से बढ़कर 28 फीसदी कर दिया है। इससे 
इससे 52 लाख केंद्रीय कर्मचारियों और 60 लाख पेंशनभोगियों को लाभ होगा। 

माकपा का आरोप- राजनीतिक चंदे के लिए शाह ने संभाली सहकारिता मंत्रालय की जिम्मेदारी

सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने बुधवार को केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक के बाद संवाददाताओं से कहा कि डीए और डीआर में  बढ़ोतरी से सरकारी खजाने पर 34,401 करोड़ रुपये का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा। ठाकुर ने कहा कि इस कदम से केंद्र सरकार के 48.34 लाख कर्मचारियों तथा 65.26 लाख पेंशनभोगियों को लाभ होगा। 

जयपुर गोल्डन अस्पताल मामले में ‘‘बेपरवाही’’ से जवाब देने पर दिल्ली पुलिस की खिंचाई

कोविड-19 महामारी के मद्देनजर सरकार ने डीए और डीआर की तीन अतिरिक्त किस्तों को रोक लिया था। ये किस्तें एक जनवरी, 2020, एक जुलाई, 2020 और एक जनवरी, 2021 से बकाया थीं। एक बयान में कहा गया है कि सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों के लिए डीए तथा पेंशनभोगियों के लिए डीआर को एक जुलाई से बढ़ाने का फैसला किया है। इसके तहत मूल वेतन/पेंशन पर 17 प्रतिशत की मौजूदा दर पर 11 प्रतिशत की बढ़ोतरी की गई है।  

कोरोना महामारी के मद्देनजर उत्तराखंड में कांवड़ यात्रा स्थगित 

इसके अलावा केंद्रीय मंत्रिमंडल ने एक जुलाई से डीए और डीआर की तीन किस्तों को बहाल करने की मंजूरी दे दी है। पत्र सूचना कार्यालय (पीआईबी) के आधिकारिक हैंडल से ट्वीट कर यह जानकारी दी गई। इसमें कहा गया है कि एक जनवरी, 2020 से 30 जून, 2021 की अवधि के लिए किसी बकाया का भुगतान नहीं किया जाएगा।  

गडकरी में है साहस, मोदी कैबिनेट में अपनी आवाज करें बुलंद : चिदंबरम

बढ़ती महंगाई के बीच सरकार का यह कदम राहत भरा है। कर्मचारी इस फैसले का लंबे से इंतजार कर रहे थे। कुछ सियासी जानकारों का मानना है कि आगामी चुनावों के मद्देनजर भी सरकार यह कदम उठाने को मजबूर हुई है।    

 

comments

.
.
.
.
.