Sunday, Oct 02, 2022
-->
bjp-mp-varun-gandhi-said-5-lakh-employees-will-unemployed-privatization-banks-railways-rkdsnt

भाजपा सांसद वरुण गांधी बोले- बैंक, रेलवे के निजीकरण से 5 लाख कर्मचारी हो जाएंगे बेरोजगार

  • Updated on 2/22/2022


नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद वरुण गांधी ने मंगलवार को बैंक और रेलवे के किसी भी प्रकार के निजीकरण का विरोध किया और दावा किया कि इससे पांच लाख कर्मचारी बेरोजगार हो जाएंगे। पिछले कुछ महीनों से कृषि कानूनों से लेकर महंगाई जैसे मु्द्दों पर भाजपा के आधिकारिक रुख से अलहदा राय रखते आ रहे पीलीभीत के सांसद ने एक ट्वीट में यह भी कहा कि एक लोक कल्याणकारी सरकार आर्थिक असमानता पैदा नहीं कर सकती। 

उप्र चुनाव : टिकैत समेत किसान नेता करेंगे प्रयागराज, गोरखपुर, वाराणसी का दौरा

उन्होंने कहा, ‘‘केवल बैंक और रेलवे का निजीकरण ही 5 लाख कर्मचारियों को ‘जबरन सेवानिवृत्त’ यानि बेरोजगार कर देगा। समाप्त होती हर नौकरी के साथ ही समाप्त हो जाती है लाखों परिवारों की उम्मीदें।’’ उन्होंने कहा, ‘‘सामाजिक स्तर पर आर्थिक असमानता पैदा कर एक ‘लोक कल्याणकारी सरकार’ पूंजीवाद को बढ़ावा कभी नहीं दे सकती।’’      पिछले महीने वरुण गांधी ने बढ़ती महंगाई और बेरोजगारी पर चिंता जताई थी और कहा था कि निजीकरण के नाम पर देश के प्रमुख संसाधनों को बेचा जा रहा है। 

NSE में चित्रा रामकृष्ण- अज्ञात योगी प्रकरण पर सीतारमण ने रुख किया साफ 

  •  

कोर्ट ने महाराष्ट्र सरकार को परमबीर सिंह के खिलाफ जांच रोकने का दिया निर्देश

उन्होंने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) की कुलपति (वीसी) के रूप में शांतिश्री धूलिपुडी पंडित की नियुक्ति की भी कड़ी आलोचना की थी और कहा था कि इस तरह की ‘‘औसत दर्जे की नियुक्तियां हमारी मानव पूंजी और हमारे युवाओं के भविष्य को नुकसान पहुंचाती हैं।’’ भाजपा सांसद ने पिछले दिनों बैंक ऋण धोखाधड़ी के कुछ मामलों का उल्लेख करते हुए कहा था कि इस ‘‘महाभ्रष्ट व्यवस्था’’ पर एक ‘‘मजबूत सरकार’’ से ‘‘मजबूत कार्रवाई’’ की अपेक्षा की जाती है। 

बलात्कारी डेरा प्रमुख राम रहीम को जेड प्लस सुरक्षा, विपक्ष बोला- यही है मोदी जी का “न्यू इंडिया”

वरुण गांधी ने केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन करने वाले किसानों का भी समर्थन किया था। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखकर इस आंदोलन के दौरान जान गंवाने वाले किसानों के परिवारों को एक-एक करोड़ रुपये का मुआवजा देने और न्यूनतम समर्थन मूल्य सुनिश्चित करने की भी मांग की थी। 

राजनाथ सिंह की रैली में युवाओं ने फिर उठाया सेना में भर्ती का मुद्दा

 

 

comments

.
.
.
.
.