Thursday, Dec 09, 2021
-->
bjp spokesperson patra attack kejriwal delhi government aap sisodia retaliated rkdsnt

कोरोना मौतों पर केजरीवाल से पात्रा ने पूछे सवाल, सिसोदिया ने वैक्सीन पर भाजपा को घेरा

  • Updated on 6/3/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोरोना से हुई मौतों को लेकर भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने दिल्ली की केजरीवाल सरकार से जमकर हमला बोला। पात्रा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर केजरीवाल सरकार से कोरोना से हुई मौतों पर श्वेत पत्र जारी करने की मांग की। इसके साथ ही उन्होंने मौतों के आंकड़ों को लेकर कई सवाल भी दागे। इसके बाद दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसादिया ने मोर्चा संभालते हुए भाजपा पर जमकर पलटवार किया। उन्होंने पूछा पात्रा वैक्सीन को लेकर जवाब देने की बजाए सीएम केजरीवाल पर निशाना साध रहे हैं और मुद्दे को भटका रहे हैं।

मौतों के आंकड़े को छिपा रही हैं दिल्ली सरकार -पात्रा

संबित पात्रा ने कहा, केजरीवाल सरकार कोरोना के मौत के आंकड़ों को छिपा रही है। सैंकड़ों लोगों की मौत किस प्रकार से हुई, इन आंकड़ों को छुपाया जाता है और कोई भी इसके लिए कोई जिम्मेदारी तय नहीं की जा रही है। भाजपा प्रवक्ता ने आगे कहा, अप्रैल और मई 2 महीने कोरोना की दूसरी लहर के संबंध में अहम रहे। इस बीच 34,750 मृत्यु प्रमाण पत्र दिल्ली के 3 नगर निगम द्वारा जारी किए। इतनी बड़ी संख्या में मृत्यु प्रमाण पत्र जारी होते हैं, लेकिन केजरीवाल सरकार द्वारा दिया आंकड़ा सिर्फ 9,916 है।

बाबा रामदेव के खिलाफ बिहार की अदालत में याचिका, देशद्रोह का मामला चलाने की मांग 

खबरों का जिक्र करते हुए पात्रा ने कहा,  'दिल्ली में 21,000 हजार से ज्यादा ऐसी मृत्यु हुई हैं, जिनका कोई हिसाब नहीं। ये किन लोगों की मृत्यु हुई हैं, जिनकी जानकारी दिल्ली सरकार नहीं देना चाहती है। केस फैटेलिटी रेट (कोरोना से मृत्युदर) पूरे हिंदुस्तान में सर्वाधिक दिल्ली में है और दूसरे स्थान पर पंजाब है। दिल्ली में यह 2.9 फीसदी है और राष्ट्रीय फैटेलिटी रेट 1.3 फीसदी है। इसका मतलब दिल्ली में यह दोगुने से भी ज्यादा है। क्या कारण है कि दिल्ली में इतनी मृत्यु हुई है।

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को दिया कोरोना टीकाकरण नीति पर दस्तावेज पेश करने का निर्देश

संबित पात्रा ने सवाल किया कि, केजरीवाल क्या ये हकीकत है कि जिस समय कोविड की दूसरी लहर अपने चरम पर थी, जानबूझकर और अपनी सरकार की साख को बचाने के लिए आपने दिल्ली में टेस्टिंग की संख्या को कम कर दिया? 

सुनारिया जेल में बंद गुरमीत राम रहीम के पेट दर्द, रोहतक के अस्पताल में हुई जांच

पात्रा ने आरोप लगाया कि केजरीवाल ने कहा था कि हम दिल्ली में ऑक्सीजन की होम डिलीवरी करेंगे, लेकिन आज आप शराब की होम डिलीवरी कर रहे हैं। दवाओं, ऑक्सीजन की होम डिलीवरी में आप सफल नहीं रहे हैं।

पात्रा ने केजरीवाल सरकार से अन्य सवाल भी पूछे। उन्होंने पूछा कि केजरीवाल सरकार ने मौतों के आंकड़े कम क्यों दिखाए? केजरीवाल ने ऑक्सीजन ऑडिट क्यों मना किया था? वैक्सीन को लेकर भी केजरीवाल ने झूठ क्यों बोला?
 केजरीवाल सरकार ने ऑक्सीजन को स्टोर करने की व्यवस्था क्यों नहीं की? दिल्ली सरकार ने कितने ऑक्सीजन प्लांट लगाए?आखिर केजरीवाल सरकार ने कोरोना की टेस्टिंग कम क्यों की? केजरीवाल सरकार ने अब तक एक भी अस्पताल क्यों नहीं बनवाए?


सिसोदिया ने भी संबित पात्रा पर किया करारा हमला 

बाद में मनीष सिसोदिया ने संबित पात्रा पर भी करारा हमला बोला। उन्होंने कहा कि पात्रा अक्सर सीएम केजरीवाल पर आरोप लगाते रहते हैं। क्या भाजपा ने पात्रा को केजरीवाल को गाली देने के लिए ही बैठाया है? उन्होंने कहा कि देश के लोग वैक्सीन चाहते हैं, केजरीवाल को लेकर गाली नहीं सुनना चाहते हैं। सिसोदिया ने कहा, " देश का इतना बड़ा नेता ऐसी बात कर रहा है। उसके पास कोरोना से लड़ने का कोई विजन नहीं है।"

हाई कोर्ट को बताया - गौतम गंभीर फाउंडेशन कोरोना ड्रग्स की अवैध जमाखोरी, वितरण में दोषी

उन्होंने कहा, "मुझे लगा कि पात्रा वैक्सीन के बारे में बताएंगे, लेकिन वो सिर्फ केजरीवाल को गाली देते रहे। भाजपा वालों से वैक्सीन के बारे में पूछ लो तो कहते हैं कि केजरीवाल खराब है। देश की सत्ता में बैठी पार्टी के पास यही काम है।"

सिसोदिया ने पूछा, "बच्चों की वैक्सीन विदेश में क्यों बेच दी पात्रा? देश को जवाब तो देना पड़ेगा। लोग वैक्सीन चाहते हैं, केजरीवाल के प्रति गाली नहीं सुनना चाहते है। भाजपा के नेता भी वैक्सीन से बचेंगे, ना कि गाली देकर।" सिसोदिया ने पूछा कि केंद्र सरकार ने 36 हजार करोड़ रुपए का क्या हुआ? वैक्सीन कब तक मिलेगी? आखिर देश में वैक्सीन की किल्लत क्यों है?

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.