Tuesday, Jul 23, 2019

BJP ने उत्तराखंड विधायक चैम्पियन को अनिश्चितकाल के लिए किया निलंबित

  • Updated on 7/11/2019

देहरादून/ब्यूरो: अनुशासनहीनता के आरोप में तीन माह के लिए निलंबित चल रहे खानपुर के भाजपा विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैम्पियन को पार्टी ने अनिश्चितकाल के लिए निलंबित कर दिया है। उन्हें निष्कासन का नोटिस भी भेजा गया है जिसका जवाब दस दिन में देना है। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी देवेन्द्र भसीन ने वीरवार को पंजाब केसरी संवाददाता को बताया कि आगे की कार्रवाई नोटिस का जवाब आने के बाद होगी।

अनुशासनहीनता के आधा दर्जन मामलों में आरोपी रहे विधायक चैम्पियन कभी सफाई देकर, तो कभी पार्टी नेतृत्व को भरोसे में लेकर कार्रवाई से बचते रहे हैं। इस बार उनका दांव सही नहीं बैठ रहा। तमंचे के साथ डांस करते समय उत्तराखंड के लिए अपमानजनक शब्दों का इस्तेमाल करने के आरोपी चैम्पियन के खिलाफ पार्टी के साथ ही पूरे प्रदेश में नाराजगी है। पार्टी नेतृत्व का मानना है कि यदि नाराजगी को दूर नहीं किया गया तो भाजपा के लिए सियासी तौर पर नुकसानदेह साबित हो सकता है।

यही कारण है कि वीडियो के वायरल होते ही दिल्ली से लेकर दून तक भाजपा में हड़कंप मच गया। प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट तत्काल हरकत में आए और महामंत्री अनिल गोयल को चैम्पियन के खिलाफ निष्कासन का नोटिस जारी करने को कहा। यह नोटिस चैम्पियन को भेजा जा चुका है। अंत में काफी सोच विचार करने के बाद वीरवार को चैम्पियन को अनिश्चितकाल के लिए पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया गया। अब वह पार्टी की किसी प्रकार की गतिविधि में भाग नहीं ले सकते।

दिल्ली दरबार से हरी झंडी

देहरादून: चैम्पियन के खिलाफ किसी भी तरह की अनुशासनात्मक कार्रवाई के लिए दिल्ली दरबार से हरी झंडी मिल गई है। राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी अनिल बलूनी, प्रदेश प्रभारी श्याम जाजू और राष्ट्रीय सदस्यता अभियान के प्रमुख शिवराज सिंह चौहान ने केन्द्रीय नेतृत्व को इस संबंध में अवगत करा दिया है। प्रदेश नेतृत्व ने भी चैम्पियन को अनिश्चितकाल के लिए निलंबित करने और निष्कासन की कार्रवाई शुरू करने की जानकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष को दी है।

पार्टी नेतृत्व करेगा उचित फैसला: सीएम

चैम्पियन के कथित बयान से मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत भी काफी आहत हैं। सचिवालय में मीडिया से उन्होंने कहा कि वायरल वीडयो में जो कुछ भी दिख रहा है, उसे सही नहीं ठहराया जा सकता। एक जनप्रतिनिधि से ऐसे आचरण की उम्मीद नहीं की जा सकती। पार्टी नेतृत्व इस बारे में उचित फैसला करेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.